News Flash
radish

मूली शाकीय फसल

मूली एक महत्वपूर्ण शाकीय फसल है, जो जड़ तथा हरी पत्तियों दोनों रूपों में प्रयोग की जाती है। शीघ्रता से बढऩे के कारण इसे अन्य सब्जियों की क्यारियों के बीच में सहयोगी अथवा अत: फसल के रूप में आसानी से लगाया जा सकता है…

भूमि और जलवायु

मूली को सभी प्रकार की मिट्टी में उगाया जा सकता है, परंतु अच्छे परिणाम प्राप्त करने हेतु बलुई दोमट मिट्टी अच्छी होती है। उत्तरी भारत के मैदानी भागों में खरीफ में इसे पछेती फसल तथा रबी में शाकीय फसल के रूप में उगाया जाता है।

बोने का समय

मूली साल भर उगाई जा सकती है, फिर भी व्यावसायिक स्तर पर इसे मैदानों में सितंबर से जनवरी तक और पहाड़ों में मार्च से अगस्त तक बोया जाता है। साल भर मूली उगाने के लिए मूली की प्रजातियों के अनुसार उनकी बुआई के समय का चुनाव किया जाता है, जैसे कि मूली की पूसा रश्मि पूसा हिमानी का बुआई का समय मध्य सितंबर है तथा जापानी सफेद एवं व्हाइट आइसीकिल किस्म की बुआई का समय मध्य अक्तूबर है तथा पूसा चैत्की की बुआई मार्च के अंत समय में करते हैं और पूसा देशी किस्म की बुआई अगस्त माह के मध्य समय में की जाती है।

बुआई का तरीका

सीधी बुआई की अपेक्षा 45 सें.मी. की दूरी पर मेंड़ पर उथली बुआई करना उपयुक्त रहता है। बीजों के अंकुरण के बाद पौध के बीच फासला 8 से 10 सें. मी. रखते हैं तथा बीच के पौधे को निकाल देते हैं। क्यारियों तथा पौधों से पौधे की दूरी किस्म तथा बुआई के मौसम पर निर्भर करती है।

सिंचाई

मूली की खेती में बुआई से लेकर मूली के बढऩे, यहां तक कि उखाड़ लेने तक पानी की ज्यादा आवश्यकता होती है। गर्मी के मौसम में हर 4 से 6 दिन तथा सर्दी में 8 से 15 दिन सिंचाई करनी चाहिए। फसल को खरपतवार से बचाने के लिए निराई-गुड़ाई कर देनी चाहिए।

खाद और उर्वरक

100 कि.ग्रा. कैल्शियम अमोनियम नाइट्रेट अथवा 50 कि. ग्रा. उत्तम यूरिया, 125 कि.ग्रा. सिंगल सुपर फॉस्फेट तथा 75 कि. ग्रा. म्युरेट ऑफ पोटाश को मेंड़ बनाने से पहले मिट्टी में मिला लेना चाहिए। जब जडें बनना शुरू हो जाएं, तब अन्य 50 कि.ग्रा. यूरिया खड़ी फसल में दें।

खुदाई

जब जड़ें थोड़ी मुलायम हों, तभी मूली उखाड़ लेनी चाहिए। खुदाई में कुछ दिनों की देरी करने पर मूली गूदेदार हो जाएगी, जो कि खपत हेतु अनुपयुक्त होगी।

यह भी पढ़ें – मिर्च की तुड़ाई के समय बरतें सावधानियां

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams