News Flash
Leaf cabbage

इसका उपयोग सब्जी और सलाद के रूप में किया जाता है

यह रबी मौसम की एक महत्वपूर्ण सब्जी है। पत्ता गोभी, उपयोगी पत्तेदार सब्जी है। जिसका उत्पादन देश के प्रत्येक प्रदेश में किया जाता है। इसे बंद गोभी के नाम से भी पुकारा जाता है। यह पोष्टिक तत्वों से भरपूर होती है। इसमें प्रचुर मात्रा में विटामिन ‘ए’ और ‘सी’ तथा कैल्शियम, फास्फोरस, खनिज होते हैं। इसका उपयोग सब्जी और सलाद के रूप में किया जाता है। सुखाकर तथा अचार तैयार कर परिरक्षित किया जाता है…

जलवायु

बंद गोभी की अच्छी वृद्धि के लिए ठंडी आद्र्र जलवायु की आवश्यकता होती है, इसमें पाले और अधिक तापमान को सहन करने की विशेष क्षमता होती है। बंद गोभी के बीज का अंकुरण 27-30 डिग्री सेल्सियस तापमान पर अच्छा होता है। जलवायु की उपयुक्तता के कारण इसकी दो फसलें ली जाती हैं। पहाड़ी क्षेत्रों में अधिक ठंड पडऩे के कारण इसकी बसंत और ग्रीष्मकालीन फसलें ली जाती हैं। इस किस्म में एक विशेष गुण पाया जाता है, यदि फसल खेत में उगी हो और थोड़ा पाला पड़ जाए, तो उसका स्वाद बहुत अच्छा होता है।

भूमि

इसकी खेती विभिन्न प्रकार की भूमियों में की जा सकती है, किंतु अगेती फसल लेने के लिए रेतीली दोमट भूमि सर्वोत्तम रहती है, जबकि पछेती और अधिक उपज लेने के लिए भारी भूमि जैसे मृतिका सिल्ट तथा दोमट भूमि उपयुक्त रहती है। जिस भूमि का पीएच मान 5.5 से 7.5 हो, वह भूमि इसकी खेती के लिए उपयुक्त रहती है। खेत की तैयारी के लिए एक जुताई मिट्टी पलटने वाले हल से या ट्रैक्टर से करें। 3-4 गहरी जुताइयां देसी हल से करके पाटा चलाकर समतल कर लेना चाहिए।

सिंचाई

बंद गोभी की फसल को लगातार नमी की आवश्यकता होती है, इसलिए इसकी सिंचाई करना आवश्यक है। रोपाई के तुरंत बाद सिंचाई करें, इसके बाद 8-10 दिन के अंतर से सिंचाई करते रहें। इस बात का ध्यान रखें कि फसल जब तैयार हो जाए, तब अधिक गहरी सिंचाई न करें, अन्यथा फूल फटने का भय रहता है।

खरपतवार नियंत्रण

बंद गोभी के साथ उगे खरपतवारों को नष्ट करने के लिए दो सिंचाइयों के मध्य हल्की निराई-गुड़ाई करें। गहरी निराई-गुड़ाई करने से पौधों की जड़ कटने का भय रहता है। 5-6 सप्ताह बाद मिट्टी चढ़ा देनी चाहिए।

कटाई

जब बंदगोभी के फूल पूरे आकार के हो जाएं और ठोस हों, तब इसकी कटाई करनी चाहिए। मैदानी क्षेत्रों में इसकी कटाई मध्य दिसंबर से अप्रैल तक की जाती है। जबकि पहाड़ी क्षेत्रों में बोने के अनुसार इसकी कटाई दो बार तक की जाती है। पहली सितंबर से दिसंबर, दूसरी मार्च से जून तक।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams