News Flash
Minor

मनोज कुमार। डमटाल/
एसपी संजीव गांधी के दिशा निर्देशानुसार नशे को खत्म करने के लिए छोड़े अभियान के तहत मंड क्षेत्र के गावों मिलवां, तेयोड़ा, बसंतपुर, ठाकुरद्वारा व बरोटा में लगभग 50 प्रतिशत तक नशे को जड़ से खत्म कर दिया था। कई नशे के कारोबारियों को हवालात में बंद भी किया। इससे लोगों ने भी राहत की सांस ली थी। लेकिन एक बार फिर उक्त गांवों में नशे के अवैध कारोबारी फिर सक्रिय हो गए हैं। सरेआम चिट्टा बेचने का धंधा जोरों से शुरू कर दिया है। नशे के कारोबारियों को जब से यह पता चला है कि उनको कोर्ट के आदेश है कि 5 ग्राम नशीला पदार्थ होने पर थाना में ही जमानत हो रही है तो अवैध शराब कारोबारियों ने भी चिट्टा पदार्थ बेचने का धंधा शुरू कर दिया है।

मिलवां में राष्ट्रीय राजमार्ग पर पेट्रोल पंप के सामने मिल्क प्लांट के साथ रहने वाले लोग सरेआम इस काम को अंजाम दे रहे हंै। यहां पर खरीददारों का जमावड़ा सुबह से शाम तक देखा जा रहा है। इसका नशा करने वाले पहले इसका धुंआ अंदर लेकर इसका नशा करते थे परंतु अब चिट्टा को टीका लगने वाली सिरिंज में भरकर टीका लगा रहे है, जोकि मिलवां के आस पास सुनसान झाडिय़ों में जाकर इसका प्रयोग कर रहे हैं। इन जगहों पर खाली सिरिजें आम पड़ी हुई मिल रही हैं।

क्षेत्र के किसानों का कहना है कि उनके गन्ने की फसल तैयार है जोकि काटने वाली है। फसलों में सिरिजों की काफी भरमार है, जिससे फसल को काटने में भी मुश्किल पैदा हो रही है। यही हाल गांव ठाकुरद्वारा, बरोटा का है यहां भी कारोबार कम नहीं हो रहा, बल्कि बढ़ रहा है। सुबह ही जालंधर, होशियारपुर, दसूया आदि पंजाब के गावों से खरीददार पहुंच जा रहे हैं।

बच्चों को धकेला जा रहा इस कारोबार में
चिट्टा बेचने वाले अब सप्लाई देने के लिए अपने-अपने छोटे छोटे बच्चों का सहारा ले रहे हंै। खरीददार पैसे उनके घरों में दे जाते है और फिर उनके नाबालिग बच्चे चाहे लड़का हो जा लड़की चिट्टा लेकर स्कूटी पर सवार होकर घर से कहीं दूर समय देकर सप्लाई देने को जा रहे हैं।

इस संबंध में डीएसपी नूरपुर नवदीप सिंह ने कहा कि अतिशीघ्र मंड क्षेत्र में नशे के कारोबारियों पर धड़पकड़ और छापेमारी की जाएगी। जो भी पकड़ा जाएगा उसे बख्शा नहीं जाएगा।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams