News Flash

नई दिल्ली। मोदी कैबिनेट का दूसरा विस्तार मंगलवार को हो गया। कैबिनेट में 10 राज्यों से 19 नए चेहरों की एंट्री हुई। वहीं राज्य मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का कैबिनेट मंत्री के रूप में प्रमोशन किया गया। राष्ट्रपति भवन के अशोेका हॉल में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने नए मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई।

प्रकाश जावड़ेकर का प्रमोशन
सबसे पहले शपथ लेने वाले जावड़ेकर को अब कैबिनेट मंत्री बनाया गया है। जावड़ेकर के बाद मध्य प्रदेश के मंड्या से सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते ने पद और गोपनीयता की शपथ ली। इनके बाद एसएस अहलूवालिया ने शपथ ली। इसके बाद रमेश जिगाजिगानी ने राज्य मंत्री की शपथ ली। उनके बाद विजय गोयल को मंत्रिमंडल में जगह मिली।

नीली पगड़ी में आए अठावले
इसके बाद नीली पगड़ी पहनकर आए महाराष्ट्र के मशहूर दलित नेता रामदास अठावले ने राज्य मंत्री पद की शपथ ली। इनकी पार्टी आरपीआई एनडीए का हिस्सा है। उनके बाद असम के नौगांव से बीजेपी सांसद राजन गोहेन राज्य मंत्री बने। मध्य प्रदेश से राज्यसभा सासंद और नर्मदा नदी संरक्षण में सक्रिय अनिल माधव दवे भी राज्य मंत्री बनाए गए।

बीजेपी के झंडे के रंग की पगड़ी पहने थे मेघवाल
गुजरात से बीजेपी के राज्यसभा सांसद पुरुषोत्तम रुपाला भी राज्य मंत्री बने। उनके बाद बीजेपी के प्रवक्ता, राज्यसभा सांसद और पूर्व पत्रकार एमजे अकबर ने राज्य मंत्री पद की शपथ ली। इसके बाद बीजेपी के झंडे की तरह की पगड़ी बांधकर आए बीकानेर से सांसद अर्जुन राम मेघवाल को राज्य मंत्री पद की शपथ दिलाई गई।

यूपी से दो महिलाएं बनीं मंत्री 
गुजरात के दाहोद से बीजेपी सांसद जसवंत सिंह भांभोर ने उनके बाद राज्य मंत्री पद की शपथ ली। उनके बाद यूपी के चंदौली से बीजेपी सांसद डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय राज्य मंत्री बने। उत्तराखंड के अलमोड़ा से बीजेपी सांसद अजय टम्टा राज्य मंत्री बनाए गए। यूपी के ही शाहजहांपुर से सांसद कृष्णा राज ने राज्य मंत्री पद के लिए गोपनीयता की शपथ ली।

गुजरात से राज्यसभा सांसद मनसुख मंडाविया राज्य मंत्री बनाए गए। मंत्रिमंडल विस्तार में दूसरी महिला मंत्री के रूप में यूपी के मिर्जापुर से अपना दल की सांसद अनुप्रिया पटेल ने राज्य मंत्री पद की शपथ ली। राजस्थान के नागौर से लोकसभा सांसद सीआर चौधरी भी राज्य मंत्री बनाए गए.

राजस्थान के ही पाली से सांसद पीपी चौधरी ने राज्य मंत्री पद की शपथ ली. इसके बाद महाराष्ट्र के धुले से सांसद और देश के प्रसिद्ध कैंसर सर्जरी विशेषज्ञ सुभाष राम राव भामरे ने राज्य मंत्री पद की शपथ ली।

दो साल के कार्यकाल में दूसरी बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल का मंगलवार को विस्तार हुआ। बताया जाता है कि आखि‍री दौर के मंथन में सोमवार को आरएसएस से चर्चा के बाद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने वित्त मंत्री अरुण जेटली के साथ बातचीत कर फाइनल लिस्ट पीएम मोदी को सौंपी।

कई सांसदों ने अमित शाह से की मुलाकात
बताया जाता है कि इनमें से कई नेताओं ने सोमवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात की, जो जल्द ही पार्टी की संगठनात्मक टीम की भी घोषणा कर सकते हैं।  इस समय प्रधानमंत्री समेत 64 केंद्रीय मंत्री हैं और संवैधानिक व्यवस्था के तहत अधिकतम 82 मंत्री हो सकते हैं।

कैबिनेट विस्तार से पहले एनडीए की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने नाराजगी जताई थी। हालांकि मंगलवार को उनकी नाराजगी दूर हो गई। अब शिवसेना की ओर से शपथ ग्रहण समारोह में राज्य मंत्री अनंत गीते औपचारिक तौर पर शामिल हुए।

शपथ ग्रहण में नहीं आने को लेकर सुषमा की सफाई
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज कैबिनेट विस्तार के दौरान शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हो पाई। उन्होंने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने ट्वीट किया कि वह राष्ट्रपति भवन में होने वाले शपथ ग्रहण समारोह में आने में सक्षम नहीं हैं। उन्होंने लिखा कि हंगरी के विदेश मंत्री के साथ पहले से तय मीटिंग की वजह से वह समारोह में नहीं आ सकेंगी। इसके साथ ही उन्होंने मंत्रिमंडल में शामिल होने वाले साथी सांसदों को बधाई दी। सुषमा ने मीडिया से आग्रह किया है कि वह शपथ ग्रहण समारोह में उनके नहीं आने को हेडिंग न बनाए।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams