state bank india

मासिक की बजाय तिमाही में निर्धारित बैलेंस मेंनटेंन करने का आ सकता है नया नियम

मुंबई
सरकार के दबाव में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) मिनिमम बैलेंस में राहत दे सकता है। शहरी शाखा में अभी मिनिमम बैलेंस की सीमा 3000 रुपये है। बैंक मासिक औसत बैलेंस की जरूरत को तिमाही औसत बैलेंस में बदलने की तैयारी में भी है। यानी ग्राहकों को हर महीने की बजाय तिमाही पर अपने अकाउंट में निर्धारित बैलेंस मेंनटेन करना होगा।

सूत्रों के मुताबिक, बैंक मिनिमम बैलेंस की जरूरत को करीब 1000 रुपये किया जा सकता है, लेकिन अभी इस पर फैसला होना बाकी है। एसबीआई ने जून में मिनिमम बैलेंस को बढ़ाकर 5000 रुपये कर दिया था। हालांकि, विरोध के बाद मिनिमम बैलेंस सीमा को मेट्रो शहरों में घटाकर 3000, सेमी-अर्बन में 2000 और ग्रामीण क्षेत्रों में 1000 रुपये किया गया था। तब नाबालिग और पेंशनर्स के लिए भी इस सीमा को कम कर दिया गया था। पेनल्टी को 25-100 रुपये से घटाकर 20-50 रुपये के रेंज में लाया गया था।

अभी कोई अंतिम फैसला नहीं

बैंक के अधिकारियों ने कहा कि इस बारे में अभी कोई अंतिम फैसला नहीं लिया गया है। हालांकि सूत्रों ने बताया कि बैंक दरों में कटौती के बाद इसके असर की गणना कर रहा है। मासिक की बजाय तिमाही बैलेंस के नियम से उन लोगों को फायदा होगा जिनके अकाउंट में किसी महीने कैश की कमी हो जाती है, लेकिन अगले महीने वह कैश जमा भी कर देते हैं।

प्राइवेट बैंकों में ज्यादा है सीमा

हालांकि, एसबीआई में मिनिमम बैलेंस की सीमा दूसरे पब्लिक सेक्टर बैंकों से अधिक और बड़े प्राइवेट बैंक्स से कम है। उदाहरण के तौर पर आईसीआईसीआई, एचडीएफसी, कोटक और एक्सिस बैंक के मेट्रो अकाउंट्स में मिनिमम बैलेंस सीमा 10 हजार रुपये है।

क्रेडिट कार्ड और इंटरनेट बैंकिंग जालसाजी से 252 करोड़ का नुकसान

नई दिल्ली। सरकार ने कहा कि पिछले तीन वर्षों में क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड और इंटरनेट बैंकिंग में जालसाजी के जरिए बैंकिंग व्यवस्था को करीब 252 करोड़ रुपये को नुकसान पहुंचा है। लोकसभा में के. गोपाल के प्रश्न के लिखित उत्तर में वित्त राज्य मंत्री शिव प्रताप शुक्ल ने यह जानकारी दी।

शुक्ल ने कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक ने सूचित किया है कि अप्रैल, 2014 से जून, 2017 के दौरान क्रेडिट कार्ड से जुड़ी जालसाजी में 130.57 करोड़ रुपए, एटीएमाडेबिट कार्ड से संबंधित जालसाजी में 91.37 करोड़ रुपये और इंटरनेट बैंकिंग से जुड़ी जालसाजी में 30.01 करोड़ रुपये का नुकसान पहुंचा।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams