illegal mining

नवांशहर और जालंधर के बीच सतलुज दरिया पर चोरी-छिपे चल रही अवैध माइनिंग

मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की पड़ी नजर तो जब्त हुईं मशीनें

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। चंडीगढ़
अवैध माइनिंग को लेकर प्रदेश सरकारों से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक चिंता जता चुका है। जिले के जिम्मेदार प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों के दावों के उलट अगर कहीं अवैध खनन हो रहा हो और उस पर खुद मुख्यमंत्री की नजर पड़ जाए तो क्या हो? यकीनन, कार्रवाई होगी। और कार्रवाई हुई भी।

घटना मंगलवार की है, जब पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह हेलिकॉप्टर से जंग-ए-आजादी स्मारक के दूसरे चरण को देश को समर्पित करने को करतारपुर जा रहे थे कि नवांशहर के राहों और जालंधर से लगे फिल्लौर क्षेत्र में सतलुज नदी की सतह पर चल रहे बड़े पैमाने पर चल रही अवैध खनन संबंधी गतिविधियां देखने के बाद वे चौंक पड़े। अवैध खनन देखकर परेशान हुए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने हेलिकॉप्टर पायलट को माइनिंग एरिया के ऊपर से चक्कर लगाने को कहा, जिससे नदी के किनारों पर चल रहे अवैध खनन को ठीक से देखा समझा जा सके और इन गैरकानूनी कामों संबंधी पुष्टि हो सके।

इसके बाद मुख्यमंत्री का हेलिकॉप्टर जैसे ही लैंड किया तो उन्होंने तुरंत इस पूरे मामले की जांच के आदेश दे दिए। सीएम का आदेश मिलने के बाद नवांशहर और जालंधर जिलों में बड़े पैमाने पर कड़ी कार्रवाई शुरू कर दी गई। एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री ने इस यात्रा के दौरान हेलिकॉप्टर से अवैध खनन गतिविधियों में लगाई गई मशीनरी देखी और इसे तुरंत जब्त करके इसकी एक विस्तृत जांच करने के आदेश दिए हैं।

सीएम ने डीजीपी को दिए सख्त दिशा-निर्देश

मुख्यमंत्री ने अपने पहले निर्देशों को दोहराते हुए डीजीपी को आदेश दिए है कि निचले स्तर तक के पुलिस मुलाजिमों तक इस संबंधी कड़ा संदेश भेजा जाए, जिससे राज्य भर में गैरकानूनी खनन पूरी तरह रोकी जा सके। उन्होंने डीजीपी सुरेश अरोड़ा को खनन विभाग और जिला प्रशासन के साथ तालमेल बनाकर इस संंबंध में व्यापक रणनीति भी तैयार करने के निर्देश दिए हैं, जिससे गैरकानूनी कार्रवाई पर नकेल कसी जा सके। उन्होंने दो-टूक कहा है कि इस संबंध में और अधिक देरी किसी भी स्थिति में सहन नहीं की जाएगी।

ये मशीनरी की गई जब्त

मुख्यमंत्री के आदेशों पर तुरंत कार्रवाई करते हुए नवांशहर जिला पुलिस प्रशासन ने मलिकपुर गांव से 21 पोर्कलेन मशीनें, 5 जेसीबी तथा 30 टिप्परों (ट्रकों) को जब्त कर लिया है। मुख्यमंत्री ने संबंधित जिलों के डिप्टी कमिश्नरों और जिलों के एसएसपी को तुरंत इन गतिविधियों के विरुद्व कार्रवाई करने और इसमें इस्तेमाल किये जा रहे उपकरणों व वाहनों को कब्जे में लेने के निर्देश दिए।

उन्होंने इसकी जिम्मेदारी तय करने के लिए कठोर जांच के आदेश भी दिए हैं, ताकि दोषियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जा सके। पंजाब में अवैध खनन रोकने के लिए राज्य सरकार द्वारा कठोर कदम उठाए जाने के बावजूद एेसी गतिविधियां चलने को गंभीरता से लेते हुए कैप्टन ने साफ कर दिया है कि इस मामले में किसी तरह की ढील या संलिप्तता को सहन नहीं किया जाएगा।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams