murder case

खुले घूम रहे आरोपी, 20 दिसंबर को होगी सुनवाई

एक कांस्टेबल भी जेल में बीमार, सर्जरी में हुआ चेकअप

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला
कोटखाई गैंगरेप और मर्डर केस की जांच कर रही CBI के हाथ अभी खाली हैं। CBI बेशक गुरुग्राम के प्रद्युम्र केस को सुलझाने का दावा कर रही हो, लेकिन यहां कोटखाई की बिटिया के दरिंदों का अभी भी पता नहीं चला है।

वहीं, इस केस के आरोपी बेल पाने के बाद अब भी खुले घूम रहे हैं। CBI ने पिछले चार महीने हर पहलुओं की जांच की, लेकिन अभी तक कोई बड़ी गिरफ्तारी नहीं हुई है। CBI ने गत 25 अक्तूबर को हाईकोर्ट में जो स्टेटस रिपोर्ट दायर की थी उससे कोर्ट संतुष्ट था। अब इस केस की सुनवाई 20 दिसंबर को होनी है। कोटखाई गैंगरेप और मर्डर केस में गत 25 अक्तूबर को CBI ने हाईकोर्ट में पांचवीं स्टेटस रिपोर्ट पेश की थी। इसका अवलोकन करने पर हाईकोर्ट सीबीआई जांच से संतुष्ट नजर आया।

CBI ने कोर्ट से बिटिया मामले की जांच पूरी करने के लिए 6 महीनों का अतिरिक्त समय मांगा था। कोर्ट ने सीबीआई के इस आवेदन को लंबित रखते हुए मामले की सुनवाई 20 दिसंबर को निर्धारित की है। ऐसे में 20 दिसंबर को होने वाली सुनवाई के दौरान बिटियों को न्याय मिलने की उम्मीद है। जानकारी के मुताबिक उसी दिन फ्रेश स्टेटस रिपोर्ट सौंपी जानी है।

पुलिस लॉकअप में हुई हत्या की रिपोर्ट 30 को आएगी

कोटखाई प्रकरण में पुलिस लॉकअप में हुई आरोपी सूरज की हत्या मामले की सुनवाई 30 नवंबर को हाईकोर्ट में होनी है। जानकारी के मुताबिक कोर्ट ने CBI को आदेश दिए थे कि वह सूरज हत्याकांड मामले में 90 दिन के भीतर चार्जशीट दायर करे और 30 नवंबर तक हाईकोर्ट में इस संदर्भ में स्टेटस रिपोर्ट पेश करे।

निलंबित आईजी फिर पहुंचे IGMC

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला
कोटखाई छात्रा गैंगरेप और मर्डर केस में पुलिस लॉकअप में आरोपी सूरज की हत्या मामल में सस्पेंड आईजी जहूर जैदी सोमवार को फिर IGMC जांच के लिए पहुंचे। पुलिस कस्टडी में अस्पताल पहुंचे जैदी का कार्डियोलोजी विभाग में चिकित्सकों ने जांच की। चिकित्सकों की जांच के बाद वह वापस कंडा जेल चले गए। वहीं उनके साथ संस्पेड हुए कांस्टेबल सूरज सिंह भी अस्पताल पहुंचे। संस्पेंड कांस्टेबल सूरज की सर्जरी विभाग के चिकित्सकों ने जांच की।

उन्हें भी जांच के बाद वापस भेज दिया गया। इससे पहले जहूर जैदी को 13 सिंतबर को सीने में दर्द होने पर IGMC लाया गया था। इस दौरान करीब 18 दिन उनका इलाज अस्पताल में चला था। इसके बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई थी। अस्पताल एमएस डॉ. रमेश चंद ने बताया के पूर्व आईजी जहूर जैद को रूटीन चेकअप के लिए अस्पताल लाया गया था। चिकित्सकों ने जांच के बाद उन्हें वापस भेज दिया है। एक कांस्टेेबल को भी जांच के लिए अस्पताल लाए थे। जिन्हें सर्जरी में जांच के बाद वापस भेज दिया गया है।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams