News Flash
Millions stolen from the family's house watching Ramlila on the roof

शातिरों ने 3 सोने के सेट, 4 सोने की अंगूठियों व नकदी पर किया हाथ साफ , शिकातय के बाद पुलिस ने मौके पर पहुंच शुरू की जांच

हिमाचल दस्तक। राजेश पटियाल:  नंगल :  नंगल नगर कौंसिल के वार्ड नंबर 9 मैदा माजरा के मकान नंबर तीन से लाखों की चोरी हुई है। शातिर चोरों ने घर से तीन सोने के सेट, साथ चार सोने की अंगूठियां व 22 हजार की नगदी पर हाथ साफ किया गया। हैरानी की बात तो यह है कि पूरी वारदात उस दौरान पेश आई, जब परिवारिक सदस्य घर की छत्त पर बैठकर रामलीला देख रहे थे। शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने मौके पर पहुंच कर जांच शुरू कर दी।

पुलिस को शिकायत देते हुए माजरा के निवासी राजेश पराशर ने बताया कि उनके घर के बिल्कुल साथ में कई वर्षों से रामलीला का मंचन हो रहा है। जिसमें वह हर वर्ष की भांति श्री रामचंद्र के रूप में अभिनय करते हैं। शुक्रवार रात को रामलीला मंचन के अंतिम दिन जब श्री रामचंद्र के वनवास से वापस अयोध्या लौटने के उपरांत राजतिलक का सीन होना था। इसी बीच में कुछ शातिर चोरों ने घर के अंदर से इस चोरी की वारदात को अंजाम दिया गया। उन्होंने बताया कि वारदात के दौरान उनकी माता व पत्नी घर की छत पर बैठकर रामलीला को देख रहे थे तथा उनके घर की एक तरफ़ के दरवाजे की कुंडी खुली रह गई थी।

उन्होंने बताया कि चोरों ने दरवाजे से अंदर दाखिल होकर पूजा रूम की छानबीन की। इसके उपरांत पूजा रूम के साथ बने कमरे में पड़ी अलमारी को खोला गया, जिसकी चाबी अलमारी के साथ बनी चिमनी के ऊपर रखी हुई थी। चोरों ने चाबी से अलमारी को खोलकर अलमारी के अंदर रखे तीन सोने के सेट, जिसमें एक फूल सोने का सेट, एक किट्टी सेट व एक लॉकेट सेट शामिल रहा। वहीं चार सोने की अंगूठियां पर हाथ साफ किया गया।

राजेश पराशर के माता निशा रानी ने बताया कि रात सवा 11 बजे अपने बेटे के को जो कि श्री रामचंद्र जी के रोल निभा रहा था के वनवास के सीन के उपरांत कपड़े बदलने के लिए तथा राजतिलक के लिए लाल रंग की साड़ी देने के लिए नीचे आए तो घर के अंदर की सभी लाइट बंद थी, जिसके बाद वो दोबारा से छत पर जा कर रामलीला देखने लगे। लेकिन जब 12 बजे रामलीला के खत्म होने के उपरांत नीचे आई तो लाइट जलाई तो देखा कि कमरे के अंदर बिखरा हुआ सामान देखा।

उन्होंने बताया कि कुछ दिन पहले यह मैंने लगभग 40000 रूपए को फाइनेंस करवाया था, जिसमें से कुछ रकम को उन्होंने खर्च कर लिया था तथा बाकी राशि अंदर ही पड़ी थी। क्योंकि अभी तक पुलिस के द्वारा दिए गए निर्देशों के तहत उन्होंने बिखरे हुए सामान को फिंगरप्रिंट लेने के कारण हाथ नहीं लगाया है। जांच अधिकारी सब इंस्पेक्टर राकेश बिंदर ने बताया कि मामले को लेकर शिकायत मिली थी। रात को ही घटनास्थल दौरा कर जांच आरंभ कर दी है। वहीं शनिवार को रोपड़ से फिंगर प्रिंट टीम के द्वारा घटना स्थल पर पहुंच कर जांच आरंभ कर दी है।

This is Rising!

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams


[recaptcha]