PoK and Gilgit Baltistan

राजनीतिक पार्टियों ने खुलकर पाकिस्तान का विरोध किया

हिमाचल दस्तक ।।
नई दिल्ली। कश्मीर की आजादी की बात करने वाले पाकिस्तान के खिलाफ उसके कब्जे वाले PoK and Gilgit Baltistan में फिर से आजादी की मांग उठी है। यहां की राजनीतिक पार्टियों ने खुलकर पाकिस्तान का विरोध करते हुए कहा है कि हम पाकिस्तान का हिस्सा नहीं हैं।

खबरों के अनुसार राजनीतिक कार्यकर्ता ताइफघुर अकबर ने आरोप लगाया कि PoK के लोगों को देशद्रोही कहा जाता है। उन्हें नेशनल एक्शन प्लान के नाम पर जेल में डाल दिया जाता है। लोगों के साथ गुलामों की तरह बर्ताव किया जाता है, न यहां कोई सड़क है, न कोई कारखाना है। लोगों को यहां बात भी नहीं करने दिया जाता है। किताबों पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है।

पीओके के राजनीतिज्ञ मिसफर खान ने कहा कि पाकिस्तान की राजनीतिक पार्टियों को PoK and Gilgit Baltistan को लेकर नाटक खत्म करना होगा, क्योंकि ये क्षेत्र पाकिस्तान का हिस्सा नहीं है। उन्होंने आगे कहा कि PoK and Gilgit Baltistan में पाकिस्तान के राजनीतिक दलों द्वारा की जा रही लूट और शोषण को रोकने की जरूरत है।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams