काफी तलाश के बाद बरामद हुए 9 और 6 साल के मासूमों के शव , दर्जनों गाडिय़ां बहीं, बाजार की दुकानों में घुसा मलबा

हिमाचल दस्तक। नेरवा : नेरवा की समीपवर्ती पंचायत केदी के कोट गांव के समीप शकराना नाले में आई बाढ़ में दो नेपाली बच्चे बह गए। इनकी शिनाख्त लेख राज 9 वर्ष और विशाल 6 वर्ष के रूप में हुई और दोनों पुत्र प्रेम बहादुर के थे। पुलिस ने दोनों का पोस्टमार्टम करवा शव परिजनों को सौंप दिए हैं। नेरवा बाजार के बीचों बीच बहने वाले घांडली नाले ने भी जमकर तबाही मचाई।

नाले में लाखों टन मलबा आने से किनारे पर खड़े पांच वाहन और दो दुकानें भी बह गईं। बाजार की कई दुकानों में मलबा घुस गया। रानाक्यार में भी दो मकान बह गए एवं शिहकयार में कई दुकानों और घरों मे नालों का मलबा घुसने से नुकसान हुआ। इसके अलावा पूरे उपमंडल में कई जगह दर्जनों घर ढह गए हैं। शालवी नदी का जलस्तर एकाएक बढऩे से डुंडी मंदिर के समीप पार्क की गई करीब एक दर्जन गाडिय़ां बाढ़ में बह गईं। सोमवार को दिन भर चर्चा रही कि बाढ़ में बही दो गाडिय़ों मे दो दो व्यक्ति भी सोए थे, लेकिन शाम होने तक न तो इस बात की कोई पुष्टि हो पाई और न ही इन गाडिय़ों की पहचान हो पाई है।

मोबाइल नेटवर्क न होने एवं सभी मार्ग अवरुद्ध होने से नेरवा पिछले तीस घंटे से शेष दुनिया से पूरी तरह से कटा हुआ है और पिछले 48 घंटे से बिजली पानी की आपूर्ति तरह ठप होने से जनजीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त हो चुका है। सोमवार को नायाब तहसीलदार नेरवा अरुण कुमार और एसएचओ नेरवा प्रदीप ठाकुर की अगवाई में पुलिस व राजस्व विभाग की टीम ने कुछ प्रभावित स्थानों का दौरा कर नुकसान का जायजा लिया।

 

Published by surinder thakur

IT Head Himachal Dastak Media P. Ltd. Bypass Road kangra Kachiari H.P.

Leave a comment

कृपया अपना विचार प्रकट करें