money laundering case

ईडी की चार्जशीट पर पेशी के लिए 22 मार्च को बुलाया

नई दिल्ली
हिमाचल के पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के आय से अधिक संपत्ति के केस में दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने ईडी की ओर से दायर सप्लीमेंटरी चार्जशीट का संज्ञान लेते हुए सभी आरोपियों को तलब किया है। वीरभद्र सिंह और उनकी धर्मपत्नी प्रतिभा सिंह को भी 22 मार्च को कोर्ट में पेश होने के लिए कहा गया है। हालांकि वीरभद्र सिंह की याचिका के बाद ही कोर्ट ने ईडी को सप्लीमेंटरी चार्जशीट जल्द दायर करने को कहा था। इसके बाद दो सप्ताह पहले ईडी ने ये आरोप पत्र दायर किया था। इसमें वीरभद्र सिंह के अलावा 8 और आरोपी हैं।

ईडी इसी केस में एक चार्जशीट पहले भी दायर कर चुकी है। वीरभद्र सिंह पर आरोप है कि उन्होंने केंद्रीय इस्पात मंत्री रहते हुए आय से ज्यादा प्रॉपर्टी जुटाई। जब वीरभद्र सिंह के शिमला स्थित निजी आवास पर छापामारी हुई थी, उस वक्त सीबीआई के साथ ईडी की टीम भी थी। ईडी ने आय से अधिक संपत्ति के केस के अलावा मनी लांड्रिंग का मामला अलग से दर्ज किया था। इसी केस में वीरभद्र सिंह के एलआईसी एजेंट आनंद चौहान एक साल से भी ज्यादा समय तक जेल में रहे हैं।

CBI ने बिना प्रदेश सरकार को बताए ही छापा मार दिया था

सीबीआई की याचिका पर जवाब मांगा सुप्रीमकोर्ट ने: पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को सुप्रीमकोर्ट ने CBI की याचिका पर जवाब दायर करने के लिए चार सप्ताह का समय दिया है। 26 सितंबर 2015 को CBI ने वीरभद्र सिंह के शिमला स्थित निजी आवास हॉली लॉज पर छापा मारा था। उस वक्त वीरभद्र सिंह सीएम थे और उनकी बेटी की शादी थी।

CBI ने बिना प्रदेश सरकार को बताए ही छापा मार दिया था। इसे चुनौती देने के लिए वीरभद्र सिंह हिमाचल हाईकोर्ट गए थे, वहां से मामला दिल्ली हाईकोर्ट शिफ्ट हो गया था। दिल्ली हाईकोर्ट के निर्णय को ही CBI ने सुप्रीमकोर्ट में चुनौती दे डाली थी। उसी पर सुप्रीमकोर्ट ने अब वीरभद्र सिंह को 4 सप्ताह का समय दिया है।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams