News Flash
vijay mallya

जेटली बताएं, भगाने के लिए किसने दिया था ऑर्डर : राहुल

कहा, पीएल पुनिया दोनों की मुलाकात के गवाह

नई दिल्ली
भगोड़े कारोबारी विजय माल्या के वित्त मंत्री अरुण जेटली से मिलने के दावे को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने वीरवार को जेटली पर माल्या के साथ मिलीभगत का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि जेटली को यह बताना चाहिए कि यह सब उन्होंने खुद से किया या इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ऑर्डर आया था। जेटली के इस्तीफे की मांग दोहराते हुए गांधी ने यह भी दावा किया कि इस मामले में वित्त मंत्री और सरकार झूठ बोल रही है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पीएल पुनिया संसद के केंद्रीय कक्ष में हुई जेटली-माल्या की 15-20 मिनट की मुलाकात के साक्षी हैं और जेटली को देश को बताना चाहिए कि माल्या को भगाने के लिए क्या डील हुई थी। गांधी ने संवाददाताओं से कहा कि बुधवार को जेटली जी ने कहा कि विजय माल्या ने उनसे संसद में अनौपचारिक मुलाकात कर ली थी। वह लंबे-लंबे ब्लॉग लिखते हैं, लेकिन किसी ब्लॉग में इस मुलाकात का जिक्र नहीं किया। जेटली जी ने जो कहा वो झूठ कहा।

हमारी पार्टी के नेता पीएल पुनिया जी ने देखा कि दोनों के बीच संसद के केंद्रीय कक्ष में मुलाकात हुई थी। उन्होंने कहा, इसमें दो सवाल उठते हैं। पहला सवाल कि वित्त मंत्री भगोड़े से बात करते हैं और वह उनसे लंदन जाने के बारे में बताता है, लेकिन फिर भी वित्त मंत्री ने सीबीआई, ईडी या पुलिस को क्यों सूचित नहीं किया ? गांधी ने यह भी पूछा, डिटेन नोटिस को इन्फॉर्म नोटिस में किसने बदलवाया? यह काम वही कर सकता है जो सीबीआई को नियंत्रित करता है। अगर जेटली जी ने अपने आप किया तो बताएं। अगर उनको ऊपर से आदेश मिला तो भी वह भी बताएं।

पुनिया का दावा, मुलाकात छोटी नहीं बड़ी थी

पीएल पुनिया ने कहा कि माल्या और जेटली के बीच मुलाकात छोटी नहीं, बड़ी थी। पहली मार्च, 2016 को मैं संसद भवन के सेंट्रल हॉल में था। तभी मैंने देखा कि जेटली और माल्या बात कर रहे हैं। 3 तारीख को जब मीडिया में माल्या के विदेश भागने की खबर छपी तो मेरा रिएक्शन यही था कि 2 दिन पहले तो वह अरुण जेटली से मिले थे।

यह भी पढ़ें – पूर्व मुख्य सचिव पर गिरफ्तारी का खतरा

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams