News Flash
education loan

एजुकेशन लोन

अच्छी नौकरी और हाई प्रोफाइल लाइफस्टाइल की चाह युवाओं को विदेश में पढ़ाई करने के लिए हमेशा से प्रेरित करती रही है, लेकिन हर किसी की फाइनेंशियल कंडीशन ऐसी नहीं होती कि वह बाहर जाकर आसानी से पढ़ाई कर सके, ऐसे में जरूरत पड़ती है एजुकेशन लोन की। आइए जानें एजुकेशन लोन से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें…

आमतौर पर एजुकेशन लोन की रकम बहुत ज्यादा होती है। ऐसे में बैंक से कर्ज लेते समय कुछ सावधानी बरतनी जरूरी है। लोन लेते वक्त किन बातों का ध्यान रखा जाए, किन बातों का नहीं, यह बेहद ही मुश्किल है, लेकिन हम आपको कुछ ऐसी महत्वपूर्ण जानकारियां, जिनके बारे में जानकर एजुकेशन लोन के बाद आप खुद को ठगा हुआ नहीं पाएंगे।

सावधानी से चुनें अपना बैंक :

सबसे पहले यह पता लगाएं कि जिस यूनिवर्सिटी में आप एडमिशन लेना चाहते हैं, उसकी वास्तविक फीस कितनी है? कई यूनिवर्सिटीज स्कॉलरशिप भी देती हैं, जिसके लिए सीधे इंस्टीट्यूट से संपर्क किया जा सकता है। कभी बिचौलियों के जरिए एडमिशन न लें और सबसे महत्वपूर्ण बात, लोन लेने से पहले यह जरूर पता कर लें कि जिस बैंक से लोन लिया जा रहा है, वो संबंधित देश की एंबेसी द्वारा लिस्टेड है या नहीं। यदि बैंक लिस्टेड नहीं होगा, तो वीजा रद हो सकता है। कोशिश यही हो कि भारतीय रिंजर्व बैंक के अंतर्गत आने वाले पब्लिक सेक्टर बैंक्स से ही लोन लें। साथ ही एचडीएफसी और आईसीआईसीआई जैसे बड़े निजी बैंकों से भी लोन लिया जा सकता है।

लोन की राशि और दरों का रखें ध्यान :

छात्रों को विदेश में पढ़ाई के लिए 20 लाख रुपए तक का लोन मिल सकता है, लेकिन लोन देते समय बैंक अपनी संतुिष्ट के लिए छात्र की योग्यता, कोर्स, भविष्य में उसके करियर ग्रोथ, नौकरी की संभावनाओं और सह आवेदक की संपत्ति की भी जांच करता है। बैंक दो तरह से लोन देता है, एक फिक्स्ड रेट और दूसरा फ्लोटिंग। फ्लोटिंग रेट पर लोन लेने पर इंटरेस्ट रेट घटने पर लोन लेने वाले को फायदा होगा और बढऩे पर घाटा। वहीं दूसरी तरफ फिक्स्ड रेट पर कर्ज लेने पर इंटरेस्ट रेट कम हो या ज्यादा कर्ज उसी
दर पर भरना पड़ता है, जो लोन लेते समय तय हुआ था।

कौन हो सह आवेदक और गारंटर :

एजुकेशन लोन देने से पहले बैंक सह आवेदक और गारंटर पूछता है, जिसके लिए छात्र को लोन देने से पहले माता-पिता या किसी दूसरे रिश्तेदार को सह आवेदक बनाया जाता है। इसकी मदद से बैंक भुगतान के लिए उन्हें उत्तरदायी बनाता है। साथ ही एक गारंटर की भी आवश्यकता होती है। लोन देते समय बैंक सह आवेदक की संपत्ति और गारंटर की जांच-पड़ताल करता है।

लोन की समय सीमा का रखें ख्याल :

जब स्टूडेंट विश्वविद्यालय में प्रवेश की प्रक्रिया पास कर लेता है, तो कॉलेज की एक समय सीमा होती है, जिसके भीतर-भीतर ही कॉलेज में प्रवेश लेना होता है। सभी बैंक्स ने अपनी अलग-अलग सीमा निर्धारित कर रखी है। सभी बैंक्स के अपने-अपने नियम हैं।

ऐसे में बैंक के नियमों के बारे में पूरी जानकारी रखनी चाहिए, ताकि यह अच्छे से मालूम हो कि कौन-सा बैंक तय सीमा में लोन की प्रक्रिया पूरी कर सकेगा। ऐसा इसलिए भी करना आवश्यक है, क्योंकि एडमिशन हमेशा यहीं आकर रुक जाते हैं, क्योंकि छात्र पहले से इस ओर ध्यान ही नहीं देते और बाद में इन सबकी छानबीन करने में अच्छा-खासा समय चला जाता है।

लोन चुकाने की प्लानिंग्स :

आपके पास लोन चुकाने के लिए कितना समय है, इसका आंकलन जरूर कर लेना चाहिए। अमेरिका और इंग्लैंड में छात्रों को आमतौर पर एजुकेशन लोन 20 से 30 साल के भीतर चुकाना होता है, लेकिन भारत में यह समय सीमा कम है। समय सीमा जितनी अधिक होगी, छात्रों के लिए उतना अच्छा रहेगा। यदि संभव हो तो पढ़ाई के दौरान ही कोई पार्टटाइम नौकरी करके लोन की रकम इक्ट्ठी की जा सकती है, ऐसा करने से आने वाले सालों में अच्छी-खासी मदद मिलती है। हालांकि पढ़ाई का बर्डन इतना ज्यादा होता है कि पढ़ाई के साथ-साथ नौकरी करना थोड़ा मुश्किल हो जाता है।

यह भी पढ़ें – ये टिप्स आपको इंटरव्यू में दिलाएंगे फुल माक्र्स

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams