attract people

अपने व्यक्तित्व को पहचानें और उसको निखारे

सफलता पाने के लिए कड़ी मेहनत तो करनी ही पड़ती है और वो भी जब आप किसी कक्षा की एग्जाम या प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हों, इसके लिए सिर्फ एक ही लक्ष्य रखना पड़ता है वह है पढ़ाई।

पढ़ाई करते समय अधिकांश विद्यार्थी यही सोचते हैं कि किसी परीक्षा में टॉप करने वाले विद्यार्थी किस तरह से परीक्षा की तैयारी करते होंगे। कौन सी किताबें पढ़ते होंगे? कितना पढ़ते होंगे और न जाने क्या-क्या सोचते रहते हैं जिसके कारण वे अपनी पढ़ाई पर ध्यान देने के बजाय टॉपर्स की क्रियाकलापों के बारे में ही सोचते रहते हैं…

अपना व्यक्तित्व सुधारें टॉपर्स बनें

इधर-उधर की चिंता करने के बजाय आप अपने व्यक्तित्व को पहचानें और उसको निखारने की चिंता करें। अगर आप चाहते हैं कि आप कंपनी में ऊंचे पद पर पहुंचें तो उसके के लिए खुद ही प्रयास करने होंगे। खुद का व्यक्तित्व स्वयं ही सुधारें। व्यवहारिक बनें, लोगों से संपर्क बनाएं, अंतर्मुखी न बनें। आपको शांत, व्यवस्थित और आत्मविश्वासी होना चाहिए क्योंकि कोई भी ऐसे व्यक्ति के साथ काम नहीं करना चाहेगा, जो बुझा-बुझा सा और निरुत्साहित हो। आपको अपनी भाषा पर नियंत्रण रखने की खास जरूरत है।

भाषा का प्रयोग

भाषा में अशुद्धता और गलत जगह गलत शब्दों का प्रयोग आपके लिए खतरनाक हो सकता है। ऐसा भी हो सकता है कि आपके सहयोगी आपके अनुभवों को दरकिनार कर दें और आपके अल्पज्ञान की खिल्ली उड़ाएं। ऐसा कोई शब्दकोश नहीं कि जिसे देखकर आप अपना ज्ञान बढ़ा सकें। ऐसा देखा जाता है कि जिन लोगों के पास बेहतर कम्युनिकेशन स्किल होती है, उनकी स्थिति कंपनी में काफी सुदृढ़ होती है। साथ ही आपमें कुछ नया करने की काबिलीयत होनी चाहिए।

आपके सुझाव बिल्कुल नए और स्वाभाविक होने चाहिए। यह किसी की देखा-देखी पर आधारित नहीं होना चाहिए। किसी भी समस्या पर जब आप सुझाव दें उसके हर आयाम पर आपके विचार स्पष्ट होने चाहिए। आपके पास जो संसाधन हैं उसका भरपूर उपयोग करें।

रखें इन बातों का खास ख्याल

शुरुआत में ही यह सोच लें कि आपको किस क्षेत्र में करियर बनाना है, उस क्षेत्र में सफलता के लिए जुट जाएं। पूर्ण समर्पण के साथ पढ़ाई करें। अगर कोचिंग के अलावा घर पर भी पढ़ाई करें। स्वयं का आत्मविश्वास बनाएं रखें। स्वयं पर किसी प्रकार का दबाव न आने दें। अपनी कमजोरियों को खोजें और उन्हें दूर करने का प्रयास करें। टॉपिक्स को रटने की बजाय समझकर पढऩे की कोशिश करें। पढ़ाई में निरंतरता रखें।

रेगुलर पढ़ाई करने से वह बोझ महसूस नहीं होता। किसी प्रतियोगी एग्जाम की तैयारी प्लानिंग से करें ताकि रिविजन में परेशानी न आए। अपने ऊपर किसी प्रकार का दबाव न आने दें। पढ़ाई के दौरान किसी भी प्रकार की परेशानी आने पर उसका टीचर्स से या दोस्तों के साथ मिलकर हल निकालने का प्रयास करें। जिस क्षेत्र में आप तैयारी कर रहे हैं, उस क्षेत्र के एक्सपट्र्स का मार्गदर्शन समय-समय पर लेते रहें।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams