toughest examinations

आइए जानते हैं कुछ ऐसे एग्जाम्स के बारे में…

एग्जाम्स की बात करें तो ये वो इम्तिहान होते हैं जो कि आपको किसी क्षेत्र विशेष में काबिल बनाने में आपकी सफलता को आंकने के लिए एक माध्यम होता है। एग्जाम्स की बात करें तो स्कूल हो या कॉलेज, आप इससे रू-ब-रू अच्छे से होंगे। लेकिन वहीं दूसरी तरफ देश में कुछ एग्जाम्स ऐसे भी हैं, जिन्हें पास करना हर किसी के बस की बात नहीं है। पास होने के लिए लोग कई सालों से तैयारी करते हैं। तो आइए जानते हैं कुछ ऐसे एग्जाम्स के बारे में जो देश के सबसे कठिन एग्जाम्स में से हैं…

सिविल सेवा परीक्षा

सिविल सेवा परीक्षा का आयोजन हर साल यूपीएससी के द्वारा करवाया जाता है। यह एग्जाम तीन चरणों में आयोजित होता है। तीन चरणों में प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और तीसरा चरण होता है साक्षात्कार का। देशभर से लाखों लोग इस एग्जाम को देने के लिए भाग लेते हैं। लाखों बच्चों में से केवल 8-10 हजार स्टूडेंट्स ही पास होते हैं। इस एग्जाम में पास होने वाले स्टूडेंट्स आईएएस, आईएफएस और आईपीएस जैसे अधिकारी पद पर नियुक्त होते हैं।

एम्स

एम्स देश के उन आयुर्विज्ञान संस्थानों में से है, जिससे हर मेडिकल स्टूडेंट का एमबीबीएस करने का सपना होता है। इसमें भी भारी संख्या में स्टूडेंट भाग लेते हैं, लेकिन कठिन परीक्षा के कारण बेहद कम स्टूडेंट्स का ही सिलेक्शन होता है।

सीए परीक्षा

यह परीक्षा इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंट्स ऑफ इंडिया की ओर से हर साल आयोजित की जाती है। आपको बता दें कि सीए का कोर्स तीन स्तरों पर बंटा हुआ है। पहला स्तर सीपीटी, दूसरा स्तर आईपीसीसी और तीसरा स्तर सीए-फाइनल होता है। स्तर के साथ-साथ इसमें सब्जेक्ट बढ़ते जाते हैं। बात करें इसके अंतिम रिजल्ट की, तो यह 3 से 7 फीसदी ही रहता है।

आईआईटी-जेईई

हर इंजीनियर बनने वाले स्टूडेंट का सपना होता है कि उसका दाखिला आईआईटी में ही हो। इसलिए पूरे देशभर से इंजीनियर स्टूडेंट्स इस परीक्षा में भाग लेते हैं। लेकिन सीट की मारामारी के चलते इसमें बहुत ही कम स्टूडेंट्स का दाखिला होता है। जेईई मेन में पास होने के आधार पर ही जेईई एडवांस परीक्षा देने का मौका मिलता है। जेईई एडवांस परीक्षा के जरिए ही देश के प्रतिष्ठित संस्थान आईआईटी के इंजीनियरिंग कोर्सेज में दाखिला ले सकते हैं।

कैट

यह एग्जाम आईआईएम में प्रवेश के लिए आयोजित करवाया जाता है। एमबीए करने वाला हर स्टूडेंट इस परीक्षा में भाग लेता है। हर साल इसमें भाग लेने वाले विद्यार्थियों की संख्या बढ़ती जाती है। बात करें कटऑफ की, तो इसकी कटऑफ भी 97 फीसदी तक जाती है। इसमें बढ़ रहे मुकाबले के कारण यह परीक्षा बेहद कठिन है।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams