News Flash
resume impressive

रिज्यूम

इन दिनों रिज्यूम भेजने के बाद कैंडिडेट्स की यही इच्छा होती है, अब उन्हें शायद नौकरी के लिए बुलावा आ जाएगा, लेकिन अक्सर ऐसा होता नहीं है। विशेषज्ञों की मानें, तो इसका मुख्य कारण खुद को बढ़ा-चढ़ाकर पेश करने का मोह और गैर पेशेवर रवैया है। आज जमाना मार्केटिंग का है। बेहतर होगा आप खुद को एक प्रोडक्ट व रिज्यूम को विज्ञापन की तरह पेश करें। इससे जॉब मिलने में आसानी होती है…

यदि आप चाहते हैं कि रिज्यूम से आपका फस्र्ट इंप्रेशन शानदार हो, तो इसे एंप्लॉयर के पास भेजने से पहले री-चेक जरूर करें, क्योंकि हो सकता है तमाम विशेषताओं के बावजूद उसमें चंद त्रुटियां रह जाएं।

लक्ष्य हो साफ

यदि आप एक ही फॉर्मेट के रिज्यूम को अलग-अलग जॉब के लिए प्रयोग कर रहे हैं, तो इससे बचना चाहिए। इससे नियोक्ता को गलत संदेश जाता है। बेहतर यही होगा कि किसी खास जॉब प्रोफाइल के अनुकूल रिज्यूम को फॉर्मेट करें। उससे जुड़ी अपनी योग्यता व उपलब्धियों को ही फोकस करें। मतलब साफ है लक्ष्य से भटकाव आपके रिज्यूम के साथ-साथ आपके पेशेवर छवि पर भी खराब असर डालता है।

प्रचलित विधि का प्रयोग

यदि आप रिज्यूम का सही प्रयोग करना चाहते हैं, तो कोशिश करें कि उसमें ज्यादा प्रयोग न हों। साथ ही, हमेशा प्रचलित विधि से ही रिज्यूम भेजें। ऑनलाइन रिज्यूम भेज रहे हैं, तो वह हमेशा टेक्स्ट फॉर्मेट में ही होना चाहिए। अन्यथा, हो सकता है कि किसी अन्य फॉर्मेट में रिज्यूम पढऩे में न आएं। दरअसल, कुछ ऑनलाइन सिस्टम में बोल्ड इटैलिक्स, बुलेट प्वाइंट्स आदि फॉन्ट को सपोर्ट नहीं करते हैं। इसी तरह, हद से ज्यादा सजावट या फॉन्ट का इस्तेमाल भी नहीं करना चाहिए।

री-चेक करें

यदि आप चाहते हैं कि रिज्यूम से आपका फस्र्ट इंप्रेशन शानदार हो, तो इसे एंप्लॉयर के पास भेजने से पहले री-चेक जरूर करें, क्योंकि हो सकता है तमाम विशेषताओं के बावजूद उसमें चंद त्रुटियां रह जाएं और इस चूक की वजह से आप उस जॉब से हाथ धो बैठें। गलतियां होना सामान्य बात है, पर यदि आप रिज्यूम भेजने से पहले लिंग, बर्तनी आदि से संबंधित अशुद्धियों को ठीक कर लेते हैं, तो यकीनन आप बन सकते हैं एक परफेक्ट कैंडिडेट।

न करें सूचनाओं से खिलवाड़

हाल ही में रिज्यूम में गलत सूचना देने को लेकर कुछ चौंकाने वाली खबरें आई थीं। यह घटना जानी-मानी आईटी कंपनी विप्रो से जुड़ी थी। दरअसल, विप्रो ने अपने कुछ एंप्लॉइज पर केस इसलिए फाइल किया, क्योंकि उन्होंने अपने रिज्यूम में गलत सूचनाएं पेश की थीं। कंपनी ने उस एजेंसी को भी नहीं बख्शा, जिसने उन कैंडिडेट्स को जॉब दिलाने में मदद की। लेकिन सच तो यह है कि योग्यता और अनुभव को बढ़ा-चढ़ा पेश करने वाली यह कोई अकेली घटना नहीं है। यह एक प्रवृत्ति बन चुकी है और इस तरह की घटनाएं खूब हो रही हैं।

रिज्यूम हो शानदार

रिज्यूम आपके व्यक्तित्व और क्षमताओं की पहली पहचान पेश करता है। इसका उद्देश्य ही होता है कि नियोक्ता कैंडिडेट को साक्षात्कार के लिए आमंत्रित करे। इस तरह, रिज्यूम के आधार पर बनने वाला इंप्रेशन साक्षात्कार में भी अहम भूमिका निभाता है। आप नियोक्ता को क्या दे सकते हैं-एक बेहतर रिज्यूम इसी बात पर फोकस होता है।

रिज्यूम संक्षिप्त होना चाहिए। दस-बारह पृष्ठों का पढऩे का समय कंपनियों के एचआर टीमों के पास नहीं होता। अपना उद्देश्य स्पष्ट होना चाहिए। किस पद के लिए आवेदन कर रहे हैं, इसे स्पष्टï करें। एक प्रकार का रिज्यूम सभी तरह के पदों के लिए न भेजें। साथ ही, निश्चित पद का उल्लेख किए बिना भी रिज्यूम न भेजें।

यह भी पढ़ें – कॉलेज प्लेसमेंट में पाएं मोटी सैलरी

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams