News Flash
iit mandi

नैनो-डिवाइस और पॉलीमर से मोलेक्युलर मशीन विकसित करने में सहायक होंगे

हिमाचल दस्तक। मंडी

आईआईटी मंडी के शोधकर्ताओं ने पॉलीमर लूपिंग की प्रक्रिया समझने के लिए आसान मॉडल विकसित किए हैं। शोधकर्ताओं ने पॉलीमरिक लूप सिस्टम में एंड लूप मैकेनिज्म के मौलिक पहलुओं को समझने के लिए सैद्धांतिक मॉडल बनाए हैं। पॉलीमर्स दुनिया में हर जगह पाए जाते हैं। मनुष्यों में भी पाए जाते हैं जो खुद विभिन्न प्रकार के पॉलीमर के संग्रह हैं। हम जो भी खाते, स्पर्श करते, महूसस करते और इस्तेमाल करते सभी किसी न किसी प्रकार के पॉलीमर हैं।

आईआईटी मंडी में स्कूल ऑफ बेसिक साइंसेज़ के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. अनिरुद्ध चक्रवर्ती की देखरेख में शोध टीम ने यह उपलब्घि हासिल की है। उनकी शिष्या सुश्री मोमीता गांगुली ने शोध के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि पॉलीमर एक साथ मौजूद सांप की तरह अलग-अलग मोलेक्युल नहीं हैं। यह अक्सर ऐंठे, आपस में जुड़े, एक दूसरे के ऊपर और विभिन्न रूपों में एक साथ लूप में रहते हैं। इस तरह रहने की वजह से से ही ये अपने काम कर पाते और यही इनकी विशिष्टता है।

हमारी नई प्रक्रिया से न केवल जीववैज्ञानिक प्रक्रि याओं में लूपिंग के महत्व को समझने का बल्कि नैनो-डिवाइस और पॉलीमर से मोलेक्युलर मशीन विकसित करने में भी मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि एंड लूपिंग-विशेष कर लंबे पॉलीमरों के सिरों के बीच संपर्क की अधिकता पाई जाती है और ये जैविक पॉलीमरों के लिए जरूरी है। हमारे जेनेटिक पॉलीमर डीएनए की लूपिंग इसके लिए हमारे ब्ल्यूप्रिंट और एमीनो एसीड (जिनसे प्रोटीन बनता है) के वाहक का काम करने के लिए जरूरी है। पॉलीमरों का एक क्रम में लूप बनना अनिवार्य है ताकि वे अपने होने का उद्देश्य पूरे करें।

मिली सेकेंड में घटती है रासायनिक प्रतिक्रियाएं

सुश्री गांगुली ने आगे कहा कि कुछ रासायनिक प्रतिक्रियाएं बड़ी तीव्रता से घटित होती हैं, एक मिलीसेकेंड के कुछ अंशों में, इस प्रकार कि किसी प्रयोग में उन पर नियंत्रण बहुत ही कठिन होता है। लूपिंग की इन प्रतिक्रियाओं की गति को समझने के लिए हमने गणित का एक अति सरल मॉडल तैयार किया, जिसमें जैसे पॉलिमर की लंबाई, रिलैक्सेशन समय और बांड की लंबाई जैसे सरल मापदंडों के आधार पर इसमें शामिल काइनेटिक्स का कोई सिद्धांत सामने आ सके। मॉडल बनाने का मकसद पॉलीमर लूपिंग के मल्टी-बॉडी नेचर (बहु-काय संरचना) को सरल बनाना और कई मानकों के प्रभावों को समझना है।

This is Rising!

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams


[recaptcha]