News Flash
amitabh

करियर की शुरुआती दौर में मैंने कई बार मुंबई की लोकल ट्रेनों में सफर किया है

बॉलीवुड महानायक अमिताभ बच्चन ने अपने बचपन से जुड़ा एक किस्सा साझा करते हुए बताया कि किस तरह वह एक बार स्टेशन पर अपने मां-बाप से बिछुड़ गए थे। जिसकी वजह से उनके मां-बाप को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था। अमिताभ बच्चन ने रेलवे सफाई और सुरक्षा के लिए एक सफर रेल के साथ नाम से वीडियो किया है। इस वीडियो को सेंट्रल रेलवे ने यूट्यूब पर जारी किया है, जिसमें अमिताभ ने अपने बचपन से जुड़ा किस्सा साझा किया है।

वीडियो में अमिताभ ने बताया कि बचपन से ही रेल से एक अलग लगाव रहा। दो साल का था मैं, जब मां-बाबूजी के साथ पहली बार स्टेशन पर आया था। नानाजी को मिलकर हम स्टेशन पर पहुंचे। मां ने मेरा हाथ बाबूजी के हाथों में दिया और वो टिकट खरीदने चली गईं। मेरा ध्यान स्टेशन पर आती ट्रेनों पर था। पटरी से गुजरती ट्रेनें मुझे लुभा रही थीं। न जाने कब बाबूजी का हाथ छुड़ाकर, सीढिय़ां चढ़कर ब्रिज पर जाकर खड़ा हो गया मैं। अमिताभ आगे बताते है कि बाबूजी ने सोचा कि मैं मां के पास टिकट घर की तरफ चला गया हूं।

इसलिए बाबूजी भी टिकट घर के पास गए और मां से मेरे बारे में पूछा। बाबूजी का सवाल सुनते ही वो घबरा गईं। वे दोनों पंद्रह मिनट तक मुझे ढूंढते रहे, तभी किसी ने उन्हें आकर कहा कि एक दो साल का बच्चा ब्रिज पर अकेले ही खड़ा है। दोनों ब्रिज की ओर दौड़ पड़े। मैं नीचे आती-जाती ट्रेनों को देखने में खोया हुआ था। मुझे वहां देखकर दोनों ने राहत की सांस ली। अमिताभ बताते है कि आज इतने सालों के बाद भी मुझे इन ट्रेनों को देखना उतना ही पसंद है जितना तब था।

करियर की शुरुआती दौर में मैंने कई बार मुंबई की लोकल ट्रेनों में सफर किया है। हालांकि अब चाहकर भी रेल से सफर मुमकिन नहीं हो पाता। लेकिन हमारी फिल्म इंडस्ट्री के कई कलाकार टेक्नीशियन रोजाना लोकल ट्रेन में सफर करते हैं और शायद यही वजह है कि हम अपनी शूटिंग समय पर कर पाते हैं। अमिताभ ने वीडियो में संदेश देते हुए कहा कि यह रेल हमारी संपत्ति है। याद रखिए हमें मिलकर इसे संभालना है। आपसे एक निवेदन है। सफर के दौरान ट्रेन में या रेल परिसर में गंदनी न फैलाएं।

यह भी पढ़ें – गूगल ने 48 को नौकरी से निकाला

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams