News Flash
actress madhuri dixit

माधुरी दीक्षित से हुई बातचीत के प्रमुख अंश

अभिनेत्री माधुरी दीक्षित फिल्म ‘टोटल धमाल’ में जल्द ही नजर आने वाली हैं। मल्टीस्टारर इस फिल्म की वे एकमात्र अभिनेत्री हैं। माधुरी बताती हैं कि ‘टोटल धमाल’ एक अभिनेता-अभिनेत्री वाली फिल्म नहीं बल्कि किरदारों से सजी फिल्म है और हर किरदार बेहद खास है। पेश है माधुरी दीक्षित से हुई बातचीत के प्रमुख अंश…

‘टोटल धमाल’ को हां कहते हुए आपको क्या खास लगा?

एक अरसे बाद अनिल कपूर जी के साथ काम कर रही हूं। ‘ये रास्ते हैं प्यार के’ के बाद अजय के साथ इस फिल्म में काम कर रही हूं। जावेद जाफरी के साथ अपनी फिल्म ‘100 डेज’ के बाद , अरशद के साथ ‘डेढ़ इश्किया’ की थी। जॉनी लीवर के साथ कई फिल्मों में काम किया है मतलब ये है कि मैं पूरी टीम के साथ काम कर चुकी हूं। जिस वजह से मैं बहुत ही सहज थी। हां रितेश के साथ कोई काम नहीं किया है लेकिन मैं उनको जानती थी। इतनी अच्छी टीम है और स्क्रिप्ट भी काफी मनोरंजक है तो मुझे लगा कि फिल्म करनी चाहिए।

कॉमेडी में हमेशा जूही चावला ने ज्यादा तारीफे बटोरी हैं। क्या खुद को उनसे बेहतर साबित करने का जज्बा आज भी है?

कंपीटिशन नहीं कहूंगी। डांस कंपीटिशन थोड़ी न है कि एक करेगा फिर दूसरा वही स्टेप करने वाला है। यह एक्टिंग है स्क्रीन पर सभी का व्यक्तित्व अलग-अलग होता है। जूही जी बहुत ही कमाल की अभिनेत्री है और जब वह कॉमेडी करती हैं तो और भी अच्छी लगती है। आप दो एक्टर्स को तुलना नहीं कर सकते हैं कि यह उससे अच्छा करता है या कम।

एक्टिंग एक आर्ट फॉर्म है, जिसे करने का सबका अपना-अपना तरीका होता है। अनिल जी का नाम लुंगी है। वह जिस एनर्जी से सेट पर आते हैं और इतने सालों में जो एनर्जी उन्होंने बरकरार रखी है, वह कमाल का है। मैंने उनके साथ काम किया है। उनकी एनर्जी लेवल आज भी पहले ही जैसा है।

क्या इस फिल्म में आप और अनिल कपूर की वही पुरानी जादुई केमिस्ट्री देखने को मिलेगी?

इस फिल्म में मेरी और अनिल जी की केमिस्ट्री बिल्कुल ही अलग है। अब तक दर्शकों ने हमें मैं तुम्हारे बिना मर जाऊंगी टाइप ही फिल्मों में देखा है, लेकिन इस फिल्म में हम बिल्कुल ही अलग दिखेंगे। हम दोनों पति-पत्नी जरूर बने हैं। वो गुजराती हंै और मेरा किरदार महाराष्ट्रीयन का है, लेकिन हमेशा लड़ाई-झगड़ा होता रहता है।

अब तक धमाल फे्रंचाइजी की फिल्मों में संजय दत्त नजर आए हैं, लेकिन इस बार वह नहीं दिख रहे हैं?

यह तो फिल्म के निर्माता-निर्देशक पर निर्भर करता है। वो जब स्क्रिप्ट लिखते हैं तो क्या-क्या किरदार उन्होंने विकसित किए हैं उन पर निर्भर होता है।

फिल्म में सोनाक्षी का एक आइटम सॉन्ग भी है।

मुझे उनके एक्सप्रेशन बहुत पसंद आते हैं। मैंने फिल्म ‘दबंग’ जब देखी थी तब मैंने उन्हें कहा भी था कि मुझे उनकी आंखें बहुत पसंद आई थीं। उनकी आंखें बहुत खूबसूरत हैं।

बीते दिनों खबर आई थी कि आप पॉलिटिक्स ज्वाइन करने वाली हैं। वो खबर भी मेरे लिए किसी कॉमेडी से कम  नहीं थी।

आपकी सदाबहार खूबसूरती का राज क्या है?

सुबह जल्दी उठना, रात को जल्दी सोना, हेल्थी खाना, कोई बुरी आदत नहीं है और मेरा डांस मुझे लगता है कि यही सब मिलकर काम करते हैं।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams