कुशलक्षेम : प्रदेश स्वास्थ्य मंत्री ने किया क्षेत्रीय अस्पताल बिलासपुर का दौरा

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। बिलासपुर : बिलासपुर में रविवार को स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री विपिन सिंह परमार ने जिले में फैल रही डेंगू की बीमारी के संदर्भ में वस्तुस्थिति का जायजा लिया। उन्होंने क्षेत्रीय अस्पताल बिलासपुर का दौरा किया व डेंगू से ग्रस्त मरीजों का कुशलक्षेम जाना।

वहीं, तीमारदारों से चिकित्सा विभाग द्वारा उपलब्ध करवाई जा रही स्वास्थ्य सुविधाओं की व्यापक जानकारी भी हासिल की। परमार ने कहा कि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों ने डेंगू नियंत्रण व निदान के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जिसका परिणाम है कि डेंगू ग्रस्त सभी मरीजों का इलाज जिले में ही किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि डेंगू की बीमारी से आमजन को भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है।

प्रदेश व केंद्र सरकार इसके निदान के लिए हर संभव प्रयास कर रही है और इसके निदान के लिए जो भी आवश्यक दवाइयां और उपकरण होंगे, उन्हें उपलब्ध करवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर डेंगू बीमारी पर स्वयं भी नजर बनाए हुए हैं। उन्होंने कहा कि बिलासपुर में फैले डेंगू के संदर्भ में उनका केंद्रीय स्वास्थ्य एवं कल्याण मंत्री जगत प्रकाश नड्डा से भी विचार-विमर्श हुआ है और उन्होंने हिमाचल में कहीं भी डेंगू के पनपने की संभवानाओं को समाप्त करने के लिए केंद्र्र सरकार से हर संभव सहायता उपलब्ध करवाने का भरोसा दिया है। इसके संदर्भ में उन्हें रिपोर्ट भी प्रेषित की गई है।

उन्होंने कहा कि मच्छरों को नष्ट करने के लिए फोगिंग की बड़ी व्हिकल माउटिंग फोगिंग मशीन को शीघ्र ही दस्तावेजी कार्रवाई पूर्ण करके बिलासलपुर के लिए उपलब्ध करवाया जाएगी। स्वास्थ्य मंत्री ने स्थानीय विधायक सुभाष ठाकुर व प्रशासनिक अधिकारियों और वार्ड सदस्यों के साथ डियारा सेक्टर-8 ,9 और 10 का भी दौरा किया। उन्होंने लोगों के घर-द्वार जाकर न केवल डेंगू से बचने के लिए उन्हें जागरूक ही किया, बल्कि घरों व नालियों का स्वयं निरीक्षण किया। इस अवसर पर स्थानीय विधायक सुभाष ठाकुर, उपायुक्त विवेक भाटिया भी उनके साथ रहे।

119 मरीजों में से 76 ठीक,12 अस्पताल में भर्ती

मुख्य चिकित्सा अधिकारी वीके चौधरी ने जानकारी देते हुए बताया कि बिलासपुर शहर में डेंगू के अभी तक कुल 119 मामले दर्ज हुए हैं, जिनमें से 76 लोग ठीक हो गए हैं और 12 लोग अस्पताल में भर्ती हैं। मारकंड, झंडुत्ता तथा घुमारवीं में डेंगू की रोकथाम के लिए बीएमओ और फील्ड स्टाफ तैनात किया गया है।

“नौ जुलाई को स्वास्थ्य मंत्रालय भारत सरकार के माध्यम से ट्रेनिंग और प्रोटोकोल के तहत चिकित्सकों की एक टीम बिलासपुर आ रही है, जो डेंगू के नियंत्रण के लिए न केवल चिकित्सकों व अन्य स्टाफ को प्रशिक्षित ही करेगी, बल्कि डेंगू के नियंत्रण में महत्वपूर्ण भूमिका भी निभाएगी।”      -विपिन परमार, स्वास्थ्य मंत्री

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams