पिछले दो साल में बनाए गए हैं ये राशन कार्ड , आधार लिंकेज से सामने आया फर्जीवाड़ा

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला : प्रदेश की जयराम सरकार ने डेढ़ लाख फर्जी राशन कार्ड रद कर दिए हैं। लोगों की शिकायत और जांच के दौरान यह सामने आया है कि पूर्व की कांग्रेस सरकार के अंतिम दो साल के दौरान डेढ़ लाख फर्जी राशन कार्ड बने थे।

खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने कंप्यूटरीकरण के माध्यम से जांच शुरू की तो फर्जी राशन कार्ड सामने आए। बुधवार को प्रदेश सचिवालय में खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री किशन कपूर ने इस बात का खुलासा किया। मीडिया से अनौपचारिक बातचीत के दौरान कपूर ने कहा कि ये ऐसे राशन कार्डधारक थे, जो किसी भी जिला से संबंध नहीं रखते थे। इसमें ऐसे भी लोग पाए गए जो एक ही परिवार में रहते हुए अलग-अलग राशन कार्ड बनाए गए।
उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार भ्रष्टाचार से समझौता नहीं करती है। इसे देखते हुए पात्र लोगों को ही राशन कार्ड वितरित किए गए हैं। मंत्री ने कहा कि वर्तमान में इलेक्ट्रॉनिक राशन कार्ड हैं, जो 18 लाख परिवारों के पास हैं। उन्होंने सभी राशन डिपो होल्डर्स को भी सख्त निर्देश दिए हैं कि राशन कार्ड फर्जी होने की स्थिति में खाद्य आपूर्ति निगम को तुरंत शिकायत करें।

भोंपू बजाती हुई आएगी रसोई गैस की गाड़ी

अब ग्रामीण क्षेत्रों में एलपीजी की गाड़ी भोंपू बजाती हुई आएगी। ग्रामीण क्षेत्रों में चूंकि गैस सप्लाई के दिन पूर्व निर्धारित होते हैं, इसलिए लोगों की सुविधा के लिए अब सायरन इसमें जोड़ा जा रहा है, ताकि सिलेंडर भरवाने के लिए लोगों को पूरा दिन इंतजार न करना पड़े। गैस एजेंसियों को तय दिन को गाड़ी भेजनी होगी।

राशन ढुलाई वाहनों में लगेंगे जीपीएस सिस्टम

खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री किशन कपूर ने कहा कि डिपुओं में राशन सप्लाई करने वाली सभी गाडिय़ों में जीएस सिस्टम लगाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि ऐसी प्रणाली शुरू करने से गड़बड़ी नहीं होगी। राशन ढुलाई वाहनों में जीपीएस लगाने के लिए मंत्री ने खाद्य आपूर्ति निगम के अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए हैं।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams