2-day ban on Satpal Satti
  • न पार्टी का प्रचार कर पाएंगे, न ही प्रेस नोट जारी हो पाएगा
  • रामशहर में राहुल गांधी के लिए पढ़ी थी फेसबुक पोस्ट की गाली,
  • आयोग ने सत्ती को चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन का दोषी पाया

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला : भाजपा अध्यक्ष सतपाल सत्ती पर बिगड़े बोलों के लिए चुनाव आयोग ने कार्रवाई की है। शुक्रवार को आयोग की ओर से पारित आदेशों के अनुसार सतपाल सत्ती को चुनाव आचार संहिता के पार्ट-वन के पैरा 2 के उल्लघंन का दोषी पाए जाने पर 48 घंटे के लिए प्रचार पर प्रतिबंध लगाया गया है। यह रोक शनिवार सुबह 10 बजे से शुरू होगी और रविवार तक जारी रहेगी। इस दौरान सतपाल सत्ती न तो रोड शो, चुनावी रैली या अन्य कार्यक्रम कर सकेंगे, बल्कि प्रेस नोट भी जारी नहीं हो पाएगा। राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी देवेश कुमार ने इसकी पुष्टि की है।

गौरतलब है कि सोलन जिला के रामशहर में एक चुनावी सभा के दौरान भाजपा अध्यक्ष सतपाल सत्ती ने राहुल गांधी के लिए किसी अन्य की फेसबुक पोस्ट की गाली को स्टेज से पढ़ दिया था। इस पर उनके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज हुई थी। साथ ही आयोग ने नोटिस जारी कर जवाब मांगा था। इस जवाब में भी सतपाल सत्ती ने यही कहा था कि उन्होंने केवल किसी अन्य की पोस्ट पढ़ी थी। लेकिन इस जवाब को चुनाव आयोग ने खारिज करते हुए अब इनके प्रचार पर बैन लगाया है।

अभी प्रियंका गांधी वाले नोटिस पर होना है फैसला

सतपाल सत्ती को रामशहर के बाद ऊना जिला के गगरेट वाले भाषण के लिए भी चुनाव आयोग ने कारण बताओ नोटिस दिया है। इसके लिए चुनाव आयोग की अपनी सर्विलांस टीम के वीडियो को आधार बनाया गया है। इसमें सतपाल सत्ती ने प्रियंका गांधी के पहनावे और राहुल गांधी की शादी न होने पर टिप्पणियां की थी। इस नोटिस का जवाब भी सत्ती ने चुनाव आयोग को भेज दिया है। राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने इस जवाब को आयोग को भेज दिया है। इस पर अभी दिल्ली से फैसला आना है। इसमें भी प्रचार से प्रतिबंधित करने जैसी कार्रवाई हुई तो यह प्रतिबंध और आगे बढ़ सकता है।

एडवोकेट विनय शर्मापर एक और एफआईआर

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतपाल सत्ती के खिलाफ विवादास्पद बयान के मामले में शिमला पुलिस ने पूर्व डिप्टी एडवोकेट जनरल विनय शर्मा पर मुकदमा दर्ज किया है। भाजपा मीडिया प्रभारी प्रवीण शर्मा की शिकायत के बाद छोटा शिमला थाना में विनय कुमार के खिलाफ आईपीसी की धारा 336, 350, 500, 505 में मुकदमा दर्ज किया गया है। उन पर आरोप है कि उन्होंने एक मीडिया चैनल पर जानबूझ कर विवादास्पद बयान दिया जिसका पहले से ही विवाद चल रहा था। इस मसले पर पहले भी शिमला के पुलिस थाना सदर में मुकदमा दर्ज है। मामले की पुष्टि एसपी शिमला ओमापति जम्वाल ने की है।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams