News Flash
Benefit from 15 thousand people in the state from Janamanch: Virendra Kanwar

सरकारी योजनाओं की जानकारी और लाभ लेने का प्रभावी माध्यम बना जनमंच

दस्तक ब्यूरो पालमपुर : ग्रामीण विकास, पंचायती राज, पशुपालन एवं मत्स्य पालन मंत्री वीरेंद्र कंवर ने रविवार को जयसिंहपुर विधानसभा क्षेत्र के जालग में आयोजित जनमंच कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए जनमंच को लोगों के लिए सरकारी योजनाओं की जानकारी,  लाभ प्राप्त करने और हर समस्या का प्रभावी निदान बताया।

वीरेंद्र कंवर ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि जनमंच कार्यक्रम, सरकार की 30 महत्वकांशी योजनाओं में एक है जो लोगों की समस्याओं के स्थाई हल के चलते काफी लोकप्रिय है। उन्होंने कहा कि जनमंच कार्यक्रम में माध्यम से अब तक प्रदेश में 15 हजार से अधिक समस्याओं हल किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि सरकार का प्रयास है कि लोगों की समस्याओं का उनके घर-द्वार पर त्वरित और स्थाई समाधान हो और उन्हें सरकारी कार्यालयों के चक्कर न लगाने पड़ें। उन्होंने कहा कि प्रत्येक जनमंच कार्यक्रम की समीक्षा मुख्यमंत्री कार्यालय में की जाती है। उन्होंने लोगों से अपनी समस्याओं के समाधान और सरकार की योजनाओं का लाभ लेने के लिए जनमंच कार्यक्रम का भरपूर उपयोग करने का आग्रह किया।
पंचायती राज मंत्री ने कहा कि केन्द्र और प्रदेश की भाजपा सरकार गरीबों के विकास के लिए हर जरूरी कदम उठा रही है।  उन्होंने कहा कि गरीबों, किसानों, महिलाओं, युवाओं और समाज के वंचित तबकों के लोगों के कल्याण को ध्यान में रखकर अनेक विकास कार्यक्रम एवं योजनाएं आरंभ की गई हैं। उन्होंने कहा कि विकास का लाभ लक्षित समूहों तक समयबद्ध सुनिश्चित बनाने के लिये विशेष प्रयास किये जा रहे हैं ताकि समाज के प्रत्येक वर्ग को इन योजनाओं का लाभ मिल सके।
उन्होंने कहा कि गांवों में विकास के लिए धन की कोई कमी नही रहेगी तथा विकास कार्यों को गति देने के लिये मनरेगा के तहत 260 कार्यों को शामिल किया गया है। उन्होंने पंचायत प्रतिनिधियों से कहा कि वे अपने-अपने  क्षेत्र की आवश्यकताओं के अनुरूप कार्य रूपरेखा तैयार करें ताकि इन कार्यों के लिये धनराशि मुहैया करवाई जा सके। उन्होंने कहा कि  सरकार की योजनाओं को आम लोगों तक पहुंचाने तथा इन्हें धरातल पर लागू करने में अधिकारियों, कर्मचारियों तथा पंचायत प्रतिनिधियों की विशेष जिम्मेवारी है।

उन्होंने अधिकारियों, कर्मचारियों तथा पंचायत प्रतिनिधियों का आह्वान किया कि वे केंद्र व प्रदेश सरकार द्वारा शुरू किये गए कार्यक्रमों तथा योजनाओं की जानकारी आम जनमानस तक पहुंचाना सुनिश्चित करें ताकि कोई भी पात्र परिवार जानकारी के अभाव में इन योजनाओं से वंचित न रहे। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि जनहित के लिए सरकार द्वारा आवंटित धनराशि का सही और समय पर उपयोग करना सुनिश्चित किया जाए ताकि लक्षित वर्ग को इन योजनाओं का सम्पूर्ण लाभ मिल सके।
कार्यक्रम में क्षेत्र की कुल 12 पंचायतों के लोगों की समस्याओं का निदान किया गया। इनमें ग्राम पंचायत जालग, नाहलना, द्रमण, सुआं, धूपक्यारा, कोसरी, अप्पर ठेहडू, सोल बनेहड़, आशापुरी, बाहे दा पट्ट, छैंछडी और लाहट के लोग शामिल रहे। कार्यक्रम में करीब 1400 लोगों ने भाग लिया।
इस मौके पर ग्रामीण मंत्री ने जनमंच को जनसरोकार का मंच बताया और कहा कि सरकार ने लोगों की समस्याओं को जानने और समस्याओं को दूर करने के लिए प्रदेश के सभी हलकों में प्रत्येक माह जनमंच कार्यक्रम आयोजित करने का निर्णय लिया था। जिसमें मंत्री की मौजूदगी में सभी विभाग मौके पर मौजूद रहकर लोगों की समस्याओं का निदान सुनिश्चित बना रहे हैं। उन्होंने कहा कि जो शेष समस्याएं रहेंगी, उन्हें भी समयबद्ध निपटारे के साथ लोगों को सूचित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि लोगों की सुविधा के लिए सरकार ने प्रदेश के तीन बड़े जिलों कांगड़ा, मंडी तथा शिमला में प्रत्येक माह दो जनमंच आयोजित करने का निर्णय लिया है।
उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार लोगों को घर-द्वार पर निःशुल्क दवाईयों और ईलाज की सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए प्रयासरत हैं।  उन्होंने देश की महत्वाकांक्षी आयुष्मान भारत योजना पर बोलते हुए कहा कि इस योजना से कांगड़ा जिला के लगभग डेढ़ लाख परिवार लाभान्वित होंगे। उन्होंने सभी पंचायत प्रतिनिधियों से इस योजना के बारे में अधिक से अधिक लोगों तक जानकारी पहुंचाने का आह्वान भी किया।
ग्रामीण विकास मंत्री ने बताया कि प्रदेश के 18 से 40 वर्ष आयुवर्ग के युवाओं को वाणिज्य एवं सेवा क्षेत्र में स्वरोजगार के साधन मुहैया करवाने के लिये मुख्यमंत्री युवा आजीविका योजना के तहत 30 लाख रुपये तक का ऋण उपलब्ध करवाया जा रहा है। इस ऋण पर पुरुषों को 25 प्रतिशत पूंजीगत उपदान दिया जाएगा वहीं महिलाओं एवं युवतियों को प्रोत्साहित करने के लिए निवेश पर 30 प्रतिशत उपदान का प्रावधान रखा गया है।

उन्होंने युवाओं से अपील की है कि वे मुख्यमंत्री युवा आजीविका योजना का लाभ उठा कर स्वरोजगार लगाने के लिए आगे आएं। उन्होंने कहा कि सरकार यह सुनिश्चित बना रही है कि विकास का लाभ समाज के हर वर्ग तक पहुंचें। उन्होंने बताया कि 70 प्रतिशत से अधिक विकलांगता वाले व्यक्तियों तथा 70 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के व्यक्तियों की पेंशन बढ़ाकर 1300 रुपये प्रतिमाह की गई है। किसानों, बुजुर्गों, महिलाओं, युवाओं और भूतपूर्व सैनिकों के कल्याण के लिए अनेक योजनाएं कार्यान्वित की जा रही हैं।

गृहिणी सुविधा योजना के लाभार्थियों को बांटे एलपीजी कनेक्शन

इस मौके वीरेंद्र कंवर ने हिमाचल गृहिणी सुविधा योजना के तहत 195 लाभार्थियों को निःशुल्क एलपीजी कनेक्शन वितरित किए। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने महिला सशक्तिकरण एवं पर्यावरण संरक्षण के उद्देश्य से हिमाचल गृहिणी सुविधा योजना आरंभ की है। इस योजना से प्रदेश के 1 लाख परिवार लाभान्वित होंगे। इन परिवारों की गृहिणियों को रसोई गैस सिलेंडरों की जमा राशि और गैस चूल्हे के लिए आर्थिक मदद दी जाएगी। इसके लिए सरकार हर गैस कनेक्शन पर 3500 रुपए का खर्च वहन करेगी। उन्होंने बताया कि जनमंच में शामिल 12 पंचायतों के 67 लाभार्थिओं को प्री-जनमंच की अवधि में गैस कनेक्शन वितरित किये गए हैं।
इस अवसर पर विधायक जयसिंहपुर, रविंद्र धीमान ने ग्रामीण विकास मंत्री का जनमंच कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए आभार प्रकट किया। उन्होंने कहा कि जनमंच प्रदेश सरकार का महत्वकांशी कार्यक्रम है और लोगों की घरद्वार समस्याओं के निपटारे से जय राम सरकार के प्रति लोगों का विश्वास और अधिक बढ़ा है।
उपायुक्त संदीप कुमार ने अवगत करवाया कि प्री-जनमंच अवधि में संबंधित 12 पंचायतों में पात्र लोगों को गृहिणी सुविधा योजना, किसान क्रेडिट कार्ड, बुढ़ापा, विधवा तथा दिव्यांग पैंशन, जनधन योजना, बेटी है अनमोल, डिजीटल राशन कार्ड, गर्भवती महिलाओं का पंजीकरण व टीकाकरण, हर घर में शौचालय इत्यादि योजनाओं का शत प्रतिशत लाभ पहुंचाना तय किया गया है।इसके अतिरिक्त क्षेत्र में लोगों के लिए निःशुल्क चिकित्सा शिविर और स्वच्छता शिविर लगाए गए।
जालग में जनमंच आयोजितकरने के लिए दिव्यांग जगदीश चंद के सुपुत्र पंकज, सोल बुनेहड़ निवासी किरन लता, सुभद्रा कुमारी लद्दी निवासीसहित सैंकड़ों लोगों ने आभार जताया। उन्होंने हिमाचल सरकार की घरद्वार पर उनकी समस्याओं का त्वरित एवं स्थाई समाधान करने की इस अनूठी पहल की सराहना की और मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर व प्रदेश सरकार के प्रति भी आभार प्रकट किया।

कार्यक्रम में आए 215 मामले

जनमंच कार्यक्रम में विभिन्न विभागों से जुड़े कुल 215 मामले प्रेषित हुए जिनमें से 80 का मौके पर ही निपटारा कर दिया गया। इनमें ज्यादातर मामले डंगे लगाने, भूमि कटाव रोकने, सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य, लोक निर्माण विभाग और बिजली बोर्ड से जुड़े थे। इन सभी समस्याओं का निपटारा अगले 10 दिनों के भीतर सुनिश्चित करने के लिए संबंधित विभागों को निर्देश दिए गए।
इसके अलावा मौके पर आयुष्मान भारत योजना के तहत करीब 60 हैल्थ और करीब 50 आधार कार्ड भी बनाए गए। जनमंच दिवस पर आयुर्वेद विभाग द्वारा आयोजित निशुल्क चिकित्सा शिविर में करीब 100 लोगों की स्वास्थ्य संबंधी जांच की गई।
कार्यक्रम में यह भी अवगत करवाया गया कि जनमंच से पूर्व की अवधि में प्राप्त 181 समस्याओं का पंजीकरण हुआ। इनमें से 30 मामलों का निवारण जनमंच दिवस से पूर्व किया गया जबकि शेष समस्याओं के निराकरण पर कार्यवाही जारी है। जनमंच दिवस से पूर्व के 10 दिनों में म्यूटेशन के 49 मामले, 47 विभिन्न प्रमाण-पत्र जारी किये, शुद्धिकरण के 5, जमीन की नकल के 148, रजिस्ट्री के 12, तकसीम के 2 मामले भी निपटाए गए। इसके अतिरिक्त प्राकृतिक आपदा राहत में 17 लाभार्थियों को 5 लाख 92 हजार रुपए से अधिक राहत राशि वितरित की गई।
इस अवसर पर जयसिंहपुर के विधायक रविंद्र धीमान, उपायुक्त संदीप कुमार, अतिरिक्त उपायुक्त केके सरोच, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संतोष पटियाल, कांगड़ा जिला के लिए जनमंच की पर्यवेक्षक राखिल काहलों,एसडीएम जयसिंहपुर अश्वनी सूद सहित सभी विभागों के जिलास्तर के अधिकारी एवं पंचायती राज संस्थाओं के जन प्रतिनिधि एवं बड़ी संख्या में संबंधित पंचायतों के लोग उपस्थित थे।

प्रेषक शारदा आनंद गौतम/पालमपुर

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams