Breaking up on the assassination of Randhir Sharma, former legislator of the Swarghat fair

 – प्रशासन ने आनन फानन में किया नई कमेटी का पंजीकरण , – आज प्रशासन का घेराव करेगी पुरानी कमेटी

हिमाचल दस्तक। स्वारघाट: Sawarghat में 21 से 25 मई तक आयोजित होने वाले कहलूर हंडृूर ग्रीष्मोत्सव को लेकर दिन प्रतिदिन राजनैतिक माहौल गर्म होता जा रहा है। इसी के चलते प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव विकास ठाकुर ने कहा कि Sawarghat में लगातार तीन वर्षों से एक कमेटी मेले का आयोजन करवा रही है, अब भाजपा के पूर्व विधायक रणधीर शर्मा की सह पर इसका भगवांकरण किया जा रहा है । और जिला प्रशासन इनके एजेंट का काम कर रहा है। जो कभी होने नहीं दिया जाएगा।

जिला प्रशासन के इस रवैये को लेकर वीरवार 17 मई को कहलूर हडूर ग्रीष्मोत्सव मेला के साथ मिलकर एसडीएम कार्यालय का घेराव किया जाएगा। उन्होंने कहा कि भाजपा की गुंडागर्दी कभी सहन नही की जाएगी। भाजपा के चंद कार्यकर्ता अगर पूर्व विधायक के कहने पर मेले को जबरदस्ती हथियाने की कोशिश करने की सोच रहे है तो उनके मंसूबे कभी पूरे नही होने देंगे। वह बुधवार को यहां पर पत्रकारों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जब एक मेले के आयोजन के लिए चार साल पहले कमेटी का गठन किया गया है। और वहीं कमेटी चार सालों से मेले का सफ ल आयोजन कर रही थी ,तो अब नई मेला कमेटी बनाने की क्या आवश्यकता आन पड़ी ,ऊपर से प्रशासन ने भी दबाव के चलते आनन फानन में नई मेला कमेटी का पंजीकरण कर डाला।

उन्होंने कहा कि जब पुरानी मेला कमेटी ने एक माह पूर्व मेले के आयोजन के लिए सभी प्रक्रियां शुरू कर तब उस तय तारीख पर नई कमेटी ने मेला कराने की घोषणा कर दी जबकि उनकी कमेटी का पंजीकरण 14 मई 2018 तक नहीं हुआ था। जबकि पुरानी कमेटी द्वारा एक माह पहले ही समाचार पत्रों के माध्यम से मेले के आयोजन के लिए सभी प्रक्रियाएं शुरू कर दी थी मेले की तीथि तो पूर्व के मेले से ही तय कर दी गई थी। अब पूर्व विधायक स्वारघाट के एक निजी होटल में बैठ कर सभी प्रशासनिक अधिकारियों पर मेले के आयोजन के लिए नई कमेटी से करवाने का पूरा दबाव बनाने में लगा है। और सभी प्रशासनिक अधिकारी उसके दबाव में आकर उल्टा सीधा काम करने में लगे हैं जो अधिकारी उनका कहना नही माने उसका तबादला करने की धमकियां देकर या देख लेने की बात कह कर गलत काम कराने में लगा है, जो अधिकारी न माने उसके तुरन्त प्रभाव से तबादला आदेश उसके हाथ में थमा दिए जाते हैं

जिसका ताजा उदाहरण स्वारघाट थाना प्रभारी राजेश पराशर द्वारा गलत काम करने से मना करने पर उसका एक दिन में ही तबादला कर दिया। उन्होंने कहा कि पूर्व विधायक अपनी हार से इतने बौखला गए हैं कि उन्हें गलत काम भी ठीक लग रहे है। उन्होंने कहा कि पुरानी कमेटी के पक्ष में उन्हें इसलिए उतरना पड़ रहा है क्योंकि पूर्व कमेटी ने राजनीति से ऊपर उठ कर बिना किसी भेदभव के तीन साल तक मेले का सफ ल आयोजन किया है, कमेटी में दोनों पार्टियों के लोगों को शामिल किया गया था।

उन्होंने कहा कि अब नई कमेटी का गठन का गठन किया गया है जिसमे मात्र भाजपा व संघ के लोगों को डाल कर मेले को राजनैतिक रूप दिया जा रहा है। और जिला प्रशासन व प्रशासनिक अधिकारियों पर पूरा दबाव बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मेले के आयोजन के लिए कानून व्यवस्था बनाना प्रशासन का काम है। उन्होंने कहा कि स्वारघाट में मेले का आयोजन पुरानी मेला कमेटी तय तारीख 21 से 25 मई तक करेगी। यदि इस दौरान मेले को लेकर कोई अप्रिय घटना घटती है तो उसकी जिम्मेवारी पूर्व विधायक रणधीर शर्मा व जिला प्रशासन की होगी। उन्होंने कहा कि इस अवसर पर जिला परिषद अध्यक्ष अमरजीत सिंह बग्गा, मेला कमेटी के प्रधान पुरषोत्तम चन्द, सचिव राजपाल ठाकुर, महेंद्र सिंह राणा,प्रकाश चन्द शर्मा, सरदार गुरदयाल सिंह, लेखराम धीमान तथा अन्य लोग मौजूद थे।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams