Debris of missing AN-32 aircraft found in Arunachal
  • 3 जून को गायब हुआ था वायुसेना का हेलिकॉप्टर
  • क्रू मेंबर्स समेत 13 यात्री थे विमान में सवार
  • घने जंगलों के कारण नहीं पहुंच पाए घटनास्थल तक
  • आज सुबह फिर शुरू हुआ अभियान

नई दिल्ली : भारतीय वायुसेना को मंगलवार को सर्च ऑपरेशन के दौरान अरुणाचल प्रदेश में एएन-32 एयरक्राफ्ट का मलबा नजर आया। वायुसेना के हेलिकॉप्टर एमआई-17 ने टाटो के उत्तरपूर्व इलाके में करीब 12 हजार फीट की ऊंचाई पर इसका मलबा देखा। 3 जून को विमान ने असम के जोरहाट एयरबेस से उड़ान भरी थी। इसमें 13 लोग सवार थे। उड़ान भरने के कुछ समय बाद ही इसका संपर्क टूट गया था।

एयरफोर्स ने बताया कि विमान के मलबे का पता चलने के बाद चीता और एडवांस्ड लाइट हेलिकॉप्टरों को तैनात किया गया। लेकिन अत्याधिक ऊंचाई और घने जंगल के चलते घटनास्थल तक हेलिकॉप्टर नहीं पहुंच पाए। घटनास्थल के सबसे नजदीक लैंडिंग साइट की पहचान हो गई है। विमान बुधवार सुबह फिर रेस्क्यू अभियान शुरू करेंगे। एएन-32 विमान की तलाश नौसेना के टोही विमान पी-8आई और इसरो के सैटेलाइट के जरिए भी की गई। जंगल काफी घना होने की वजह से पी-8आई एयरक्राफ्ट का इस्तेमाल किया गया।

यह विमान इलेक्ट्रो ऑप्टिकल और इंफ्राारेड सेंसर्स से लैस है।इसमें बेहद शक्तिशाली सिंथेटिक अपर्चर राडार (एसएआर) लगे हैं। पी-8आई विमान अमेरिका की बोइंग कंपनी ने बनाए हैं। यह लंबी दूरी वाला टोही विमान है और अभी नौसेना के पास ऐसे 8 एयरक्राफ्ट हैं। सोवियत एरा का यह एयरक्राफ्ट 1980 में भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया था। इसे लगातार अपडेट किया गया। हालांकि लापता प्लेन एएन-32 इन अपग्रेडेड एयरक्राफ्ट का हिस्सा नहीं है।

2016 में भी लापता हुआ था विमान

तीन साल पहले 22 जुलाई 2016 को भारतीय वायुसेना का एयरक्राफ्ट एएन-32 लापता हो गया था। इसमें 29 लोग सवार थे। एयरक्राफ्ट चेन्नई से पोर्ट-ब्लेयर की ओर जा रहा था। बंगाल की खाड़ी के बाद इसका संपर्क टूट गया।

प्लेन हाईजैक की धमकी देने वाले को उम्रकैद

अहमदाबाद। एनआईए की स्पेशल कोर्ट ने मुंबई के बिजनेसमैन को प्लेन हाईजैक की धमकी देने के मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई है। इसके अलावा कोर्ट ने दोषी को 5 करोड़ रुपये जुर्माना भी लगाया है। जुर्माने की राशि से विमान के को-पायलट को 1-1 लाख, एयर होस्टेस को 50-50 हजार और सभी यात्रियों को 25-25 हजार रुपये का मुआवजा देने का आदेश दिया है। 30 अक्टूबर 2017 को मुंबई के बिजनेसमैन ने जेट एयरवेज की फ्लाइट के टॉयलेट में अंग्रेजी और उर्दू में लिखे पत्र रखकर विमान हाईजैक की धमकी दी थी। कोर्ट ने एंटी हाईजैकिंग एक्ट 2016 के तहत आरोपी को दोषी पाया है।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams