Enters four more seats with margins

इंटरव्यू : उदयबीर पठानिया :

चोटिल होने के बावजूद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर अनथक योद्धा की मानिंद पूरे प्रदेश में लोकसभा चुनाव प्रचार की कमान थामे हुए हैं। अलसुबह शुरू हुआ बैठकों का दौर आधी रात तक जारी रहता है। कार्यकर्ताओं की पीठ थपथपाने से लेकर रूठों को मनाने तक का सारा जिम्मा उन्हीं पर है। हिमाचल दस्तक ने सोमवार को उनसे बातचीत की तो ऐसी तमाम चीजें सामने नजर आ रही थीं। मुख्यमंत्री का दावा है कि वे चारों लोकसभा सीटों पर जीतेंगे।

वे कहते हैं जीत का मार्जिन पहले से भी ज्यादा होगा। प्रधानमंत्री मोदी की छवि और विकास कार्य जीत के कारक होंगे। कांग्रेस को जमीन दिखाने का सीएम कोई मौका नहीं गंवा रहे। वाणी ऐसी कि बिना सावधान हुए कोई नहीं रह सकता। बकौल मुख्यमंत्री उनकी यह नेचर रही है कि वह हर किसी को स्पेस देते हैं, प्लेस देते हैं, पर कोई हद से बाहर जाए तो बर्दाश्त भी नहीं करते। यह उन्हीं सीएम के बोल हैं, जिन्होंने जब सीएम की कुर्सी संभाली थी तो कई तरह की बातें की जा रही थीं। पर सवा साल में ही जयराम फुल स्विंग में आ गए हैं। सामान्य भाषा में बात करें तो चक्कर-घिन्नी की तरह सबको घुमाने शुरू हो गए हैं।

मुख्यमंत्री ने अनिल शर्मा को सामाजिक प्लेटफॉर्म के जरिये पॉलिटीकल प्लेटफॉर्म पर घेरने की अजब-गजब रणनीति अपनाई हुई है। पिता पंडित सुखराम के बूते राजनीति कर रहे अनिल शर्मा को ठाकुर उनके बेटे आश्रय के जरिये घेर रहे हैं। न दादा को, न पिता को और न ही पोते को जनता के बीच उभरने का मौका दे रहे हैं। जयराम ठाकुर ने ऐसा इशारा भी किया कि जनता के हितों की खातिर मंत्रिमंडल में फेरबदल कर सकते हैं और इसके लिए हाईकमान ने खुला हाथ दिया हुआ है। इशारा साफ था कि अगर वह अपने घर के मंत्री के लिए ‘कड़े-दम’ हो सकते हैं तो दूसरे भी किसी अहम-वहम में न रहें।

सीएम कई मामलों में जिक्र तो किसी एक निशाने का करते रहे, पर फिक्र में सबको डालते रहे। डेढ़ साल से मंत्रिमंडल में बैठी जमात को भी वह स्कोप देने को तैयार दिखते हैं, मगर यह भी जाहिर करने में ठाकुर कोई परहेज नहीं बरतते हैं कि स्कोप तभी तक है, जब तक जनता और सरकार में मंत्रियों की कार्यशैली बेहतरीन रहती है। राष्ट्रीय राजनीति में मोदी-शाह के फैन ठाकुर यह भी मानते हैं कि साल 2014 में मोदी-शाह ने देश को कांग्रेस मुक्त कर दिया था, तो 2019 में कांग्रेस को गांधी परिवार से भी मुक्ति दिलवा देंगे। जयराम ठाकुर ने इशारों में साफ किया कि वे सियासत में कुछ नई इबारतें लिखने की फिराक में हैं। वो चाहे प्रदेश के विकास की बात हो या फिर गवर्नंेस की।

 

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams