News Flash

राजीव भनोट, ऊना। : जिला में स्थापित एकमात्र ईसीएचएस पॉलीक्लीनीक रामपुर में पूर्व सैनिकों को स्वास्थ्य सेवाएं नहीं मिल पा रही है। ईसीएचएस पॉलीक्लीनीक में इस माह के पहले सप्ताह में ही दो चिकित्सकों ने अपने पद से त्याग पत्र दे दिया है। वहीं, एक अन्य चिकित्सक ने रिजाईन करने से पहले संस्थान प्रबंधन को नोटिस दे दिया है। जिससे स्वास्थ्य संस्थान में स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गई हैं।

चिकित्सकों के खाली पद होने के चलते यहां हर रोज उपचार के लिए आने वाले करीब 200 पूर्व सैनिकों को समस्या झेलनी पड़ रही है। जिससे पूर्व सैनिकों में रोष पनप चुका है। पूर्व सैनिकों ने संस्थान में चिकित्सकों के खाली पद भरने की मांग की है। इसके लिए पूर्व सैनिकों ने ईसीएचएस प्रभारी से भी मुलाकात की। जलग्रां के पूर्व सैनिक कुलदीप चंद का कहना है कि एक ही चिकित्सक होने से समस्या झेलनी पड़ रही है। मरीज को चैकअप के लिए लंबा इंतजार करना पड़ रहा है। इस ओर उचित कदम उठाए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि अस्पताल में हालात तो यहां तक पहुंच गए हैं कि ईसीएचएस पॉलीक्लीनीक में तैनात दंत चिकित्सक अपने मरीजों का चैकअप करने के बजाये अन्य चिकित्सकों का चैकअप भी करना पड़ रहा है।
पूर्व सैनिक हरीश का कहना है कि ईसीएचएस पॉलीक्लीनीक में कोई भी विशेषज्ञ चिकित्सक नहीं है। चिकित्सकों के पद खाली हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि अचानक ही चिकित्सक यहां से क्यों छोड़कर चले गए इस बारे में भी पता किया जाना चाहिए। इंडियन एक्ससर्विसमैन युनियन के अध्यक्ष शक्ति चंद का कहना है कि ईसीएचएस में चिकित्सकों के खाली पदों को भरा जाना चाहिए। खाली पद होने से पूर्व सैनिकों को समस्या झेलनी पड़ रही है। उन्होंने कहा कि अकेले चिकित्सक पर भी काम का बोझ बढ़ रहा है। वहीं, 2006 से यह पॉलीक्लीनीक चल रहा है। आज तक यह समस्या नहीं आई। लेकिन कहां पर कमियां है, इस बारे में जांच होनी चाहिए। पूर्व सैनिकों ने ईसीएचएस प्रभारी से मांग करते हुए जल्द से जल्द चिकित्सक तैनात करने की मांग उठाई है।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams