News Flash
Farmers-gardeners are getting rich with Himachal Pushp Kranti Yojana

प्रदेश में 643 हेक्टेयर में किया जा रहा 90 करोड़ का पुष्प व्यवसाय ,  तीन हजार किसान उत्पादन गतिविधियों में हैं शामिल

सुरेंद्र कटोच। हमीरपुर  : प्रदेश में फूलों की खेती की व्यापक संभावनाओं को देखते हुए राज्य सरकार द्वारा हिमाचल पुष्प क्रांति योजना प्रारंभ की गई है। इस समय प्रदेश में लगभग 643 हेक्टेयर क्षेत्र में पुष्प उत्पादन किया जा रहा है। इसमें तीन हजार किसान इन उत्पादन गतिविधियों में शामिल हैं और पुष्प उत्पादन के माध्यम से लगभग 90 करोड़ रुपये का व्यवसाय कर रहे हैं।

हिमाचल पुष्प क्रांति योजना के अंतर्गत प्रदेश में प्राकृतिक हवादार पॉली हाउस व पॉली टनल स्थापित करने, उत्कृष्ट पौध सामग्री उपलब्ध करवाने पर विशेष बल दिया जा रहा है। किसानों को प्रशिक्षण व बाहरी राज्यों में प्रशिक्षण भ्रमण की व्यवस्था योजना में शामिल है।

योजना के लिए यह है पात्रता की शर्तें

सहायता अनुदान हेतु पात्र किसान की स्वयं की भूमि व हिमाचल का स्थायी निवासी होना चाहिए। यदि किसान लीज पट्टे भूमि पर पुष्प खेती करना चाहता हो तो उसे भूमि की न्यूनतम 10 वर्ष की रजिस्टर्ड लीज डीड प्रस्तुत करनी होगी। एक लाभार्थी परिवार अधिकतम 4 हजार वर्ग मीटर तक फूलों की खेती हेतु ही इस योजना के अंतर्गत सहायता प्राप्त कर सकता है।

पौध सामग्री पर यह मिलेगा अनुदान

इस योजना के तहत ग्रीन हाउस ढांचे में पंखे व पैड इत्यादि लगाने के लिए 85 प्रतिशत तक का उपदान देने का प्रावधान किया गया है। पॉली हाउस व शेड नेट हाउस में गुलनार व जरबेरा की खेती और पौध सामग्री उत्पादन के लिए लाभार्थी को 50 प्रतिशत उपदान का प्रावधान है। इसकी लागत 610 रुपये प्रति वर्ग मीटर है। इसी प्रकार पॉली हाउस व शेड नेट हाउस में गुलाब व इलियम की खेती व पौध सामग्री के लिए भी 50 प्रतिशत उपदान दिया जा रहा है, जिसकी लागत 426 रुपये प्रति वर्ग मीटर है।

निर्माण पर यह रहेगी लागत

पंखा व पैड प्रणाली में निर्माण पर 500 वर्ग मीटर क्षेत्रफल तक के लिए लागत 1897 रुपये प्रति वर्ग मीटर, 501 से 1008 वर्ग मीटर तक लागत 1685 रुपये, 1009 से 2080 वर्ग मीटर तक 1633 रुपये तथा 2081 से 4000 वर्ग मीटर तक 1610 रुपये प्रति वर्ग मीटर की लागत निर्धारित है। इस पर 85 प्रतिशत अनुदान सरकार की ओर से प्रदान किया जा रहा है।’

जिले के लिए 85 लाख 45 हजार के बजट का प्रावधान

हमीरपुर जिले में वर्तमान में लगभग 79,785 वर्ग मीटर क्षेत्र फूलों की खेती के अधीन लाया जा चुका है। वर्ष 2018-19 में जिला में फूलों की संरक्षित खेती के अंतर्गत कार्नेशन तथा सब्जियों को बढ़ावा देकर लगभग 15 हजार वर्ग मीटर क्षेत्रफल को इसके अधीन लाया गया है। जिले में हिमाचल पुष्प क्रांति योजना के अंतर्गत वर्ष 2018-19 में लगभग 85 लाख 45 हजार रुपये की धनराशि आवंटित की गई थी, जिसमें से 76 लाख 29 हजार रुपये पुष्प उत्पादकों को उपदान के रूप में प्रदान किए जा चुके हैं।

This is Rising!

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams


[recaptcha]