शिमला:  पालमपुर के पास बाढ़ के कारण फंसे छह लोगों को बचा लिया गया जबकि कांगड़ा तथा चम्बा जिलों में भूस्खलन के बाद कई सड़कें अब भी बंद हैं। कांगड़ा जिले में भारी बारिश के कारण सभी शिक्षण संस्थान शनिवार को बंद कर दिए गए।

कांगड़ा के उपायुक्त एवं जिला मजिस्ट्रेट राकेश कुमार प्रजापति ने कहा कि जिले के कई हिस्सों में शुक्रवार की शाम से लगातार हो रही बारिश के मद्देनजर शनिवार सुबह यह निर्देश जारी किए। प्रजापति ने कहा, जिले में लगातार हो रही बारिश और प्रतिकूल मौसम को देखते हुए आज (शनिवार को) स्कूलों और अन्य शिक्षण संस्थानों में छुट्टी रहने की घोषणा की जाती है। मौसम विज्ञान विभाग ने शुक्रवार को ऑरेन्ज अलर्ट जारी करते हुए राज्य में भारी बारिश के प्रति चेताया था। साथ ही रेड वॉर्निंग जारी करते हुए कांगड़ा सहित कई जिलों में शनिवार और रविवार को अत्यधिक तेज बारिश की पूर्वसूचना दी थी।

अधिकारी ने बताया कि फंसे हुए जिन छह लोगों को निकाला गया है वे जल्द विंध्यवासिनी मंदिर से होते हुए पालमपुर पहुंचेंगे।
उन्होंने बताया कि पालमपुर सब डिवीजन के आसपास शुक्रवार देर रात से भारी बारिश होने के कारण नेउगल खद और उसकी सहायक नदियों तथा बाकी नदियों में बाढ़ आ गई।उन्होंने बताया कि इससे छह लोग नेउगल खड में ओम हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट के पास फंस गए। राज्य पुलिस और होम गार्ड जवानों के एक दल ने उन्हें वहां से सुरक्षित निकाला है।

Published by surinder thakur

IT Head Himachal Dastak Media P. Ltd. Bypass Road kangra Kachiari H.P.

Leave a comment

कृपया अपना विचार प्रकट करें