News Flash
Himachal will eradicate poverty line

एक लाख परिवारों को आय के साधन देकर बाहर निकालेंगे, 1000 पंचायतों को इस साल जीरो वेस्ट करने का लक्ष्य तय

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला : जयराम सरकार के ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने दावा किया है कि सरकार गरीबी की रेखा को धीरे-धीरे मिटाएगी। इस साल कुल 2.82 लाख बीपीएल परिवारों में से एक लाख परिवारों को आय के साधन देकर इस रेखा से बाहर निकाला जाएगा।

ग्राम सभा में ही ऐसे परिवारों का चयन कर उनकी योग्यता और लैंड होल्डिंग के हिसाब से इनकी मदद की जाएगी। इन्हें बागवानी, कृषि, पोल्ट्री, गॉट फार्मिंग जैसे लाइवलिहुड एक्टिविटी से जोड़कर बीपीएल से बाहर निकाला जाएगा। वह शिमला में प्रेस वार्ता को संबोधित कर रहे थे। पंचायती राज एवं ग्रामीण विभाग की 2 दिवसीय बैठक की जानकारी देते हुए मंत्री ने बताया कि उन्होंने अगले एक साल के लिए विभाग के लक्ष्य तय किए हैं। इसके तहत प्रदेश की 1000 पंचायतों को इस साल जीरो वेस्ट करने का लक्ष्य तय किया गया है। इन पंचायतों के क्लस्टर बनाकर कूड़ा संयंत्र लगाए जा रहे हैं। 500 पंचायतों को 2 अक्तूबर, 2019 तक कचरा मुक्त कर दिया जाएगा। शेष 500 को 30 जनवरी, 2020 तक जीरो वेस्ट किया जाएगा। ये दोनों ही तिथियां महात्मा गांधी से जुड़ी हैं।

विभाग ने यह फैसला भी लिया है कि प्रदेश में जहां भी सरकारी योजनाओं या सब्सिडी के आधार पर लोगों के घरों में सिंगल पिट शौचालय बने हैं, उन्हें ट्विन पिट में भी सरकारी पैसे से ही बदला जाएगा। इसकी विस्तृत कार्ययोजना तैयार की जा रही है। इस काम के लिए 5000 रुपये की सब्सिडी अभी मौजूद है और शेष काम मनरेगा में कंवर्जेंस से पूरा कियाा जाएगा। मंत्री ने कहा कि पंचायत प्रधानों को उनकी न्यायिक शक्तियों की प्रति जागरूक करने के लिए प्रशिक्षण देकर उन्हें 3 महीने में पुराने केस खत्म करने का टारगेट दिया जाएगा।

एनआरएल के तहत पंचायतों में खुले स्वयं सहायता समूहों के उत्पादों को बेचने के लिए हर जिला पर काउंटर खोले जाएंगे। यह फैसला भी इस बैठक में हुआ है। वीरेंद्र कंवर ने कहा कि विभागीय समीक्षा बैठकें अब संसदीय क्षेत्रवार होंगी और मुख्यमंत्री ग्राम कौशल योजना को जल्द शुरू किया जाएगा। उनके साथ पंचायती राज सचिव डॉ. आरएन बत्ता भी थे।

सीएम की गृह पंचायत में हुए कई सफल प्रयोग

वीरेंद्र कंवर ने कहा कि पिछले एक साल में उनके विभाग ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की गृह पंचायत सिराज की मुरहाग में कई प्रयोग किए हैं। मनरेगा के साथ कंवर्जेंस कर करीब अढ़ाई करोड़ खर्च करके पंचायत घर, फसल संग्रहण केंद्र, महिला मंडल भवन और नेचर फार्म बनाया गया। इसी पंचायत के खुनाणी गांव को ग्रीन हाउस विलेज घोषित किया गया। यह प्रयोग सफल रहे, इसलिए अब अन्य पंचायतों में भी होंगे।

मनरेगा में मोक्ष धाम और जलसंग्रहण टैंक बनेंगे

पंचायती राज सचिव आरएन बत्ता ने बताया कि मनरेगा में पिछले साल हिमाचल में 866 करोड़ खर्च किए, जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है। इसी योजना में अब तक 1200 पंचायतों में मोक्ष धाम बन चुके हैं। अब जलसंग्रहण टैंक बनाने पर फोकस होगा। अब तक 11740 टैंक बनाए भी जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि 120 दिन मनरेगा में करने के बाद प्रदेश में 67379 परिवारों ने इस योजना में काम किया और रिकॉर्ड 2.85 मैनडेज जेनरेट हुए।

 

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams