News Flash
In Punjab, drug smugglers will be sentenced to death

कैप्टन सरकार ने मंजूरी के लिए केंद्र को भेजा प्रस्ताव ,  युवाओं का भविष्य बचाने को उठाया कदम 

एजेंसी। चंडीगढ़  : नशे की तस्करी पर लगाम लगाने के लिए पंजाब की अमरिंदर सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए ड्रग तस्करों को फांंसी की सजा देने का प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजा है। यदि केंद्र इस प्रस्ताव को मंजूरी दे देता है तो प्रदेश में नशे का धंधा करने वालों पर कड़ी नकेल कसी जा सकती है।

पंजाब की राजधानी चंडीगढ़ के सिविल सचिवालय में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में यह फैसला लिया गया। सूबे के सीएम अमरिंदर सिंह ने कहा कि ड्रग तस्करों ने प्रदेश के युवाओं का भविष्य बर्बाद कर दिया है, इसलिए उन्हें कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए। उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार राज्य को नशामुक्त बनाने के अपने संकल्प पर अडिग है। आपको बता दें कि इससे पहले पंजाब सरकार ने हथियार का लाइसेंस देने के लिए आवेदक का डोप टेस्ट अनिवार्य कर दिया था। गौरतलब है कि पंजाब में ड्रग्स की समस्या बेहद गंभीर है। राज्य के युवाओं का एक बड़ा हिस्सा नशे का आदी है।

पिछला विधानसभा चुनाव भी इसी मुद्दे पर लड़ा गया था, जिसमें कांग्रेस ने वादा किया था कि वह राज्य को नशामुक्त करेगी। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कुछ दिन पहले ही दावा किया था कि पंजाब में ड्रग्स सप्लाई करने वाले सबसे बड़े तस्कर का पता लगा लिया गया है। उस समय दावा किया गया था कि ड्रग्स तस्कर इस समय हांगकांग की जेल में बंद है और वहीं से पंजाब में नशा का कारोबार कर रहा है। इसी कड़ी में अब पंजाब सरकार ने ये फैसला किया है कि ड्रग्स की स्मगलिंग और पैडलिंग करने वालों के खिलाफ पंजाब सरकार डेथ पेनल्टी का प्रावधान करेगी।

नशे से एक महीने में 30 युवाओं की मौत

पंजाब में एक माह में करीब 30 युवाओं की नशे के कारण मौत हो चुकी है। सरकार ड्रग्स की ओवरडोज के कारण मारे गए लोगों के लिए केंद्र सरकार से मुआवजे की मांग करेगी। इसके साथ नशे से जुड़े मामले पर कैबिनेट सब कमेटी का गठन किया गया। यह सब कमेटी हर सप्ताह राज्य में ड्रग के कारोबारियों पर कार्रवाई और राज्य में नशे कर स्थिति की समीक्षा करेगी। इसके साथ ही स्थिति की रोजाना समीक्षा के लिए स्पेशल ग्रुप का गठन किया गया।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams