News Flash
Inaccuracies of the JBT commission, Grace Marx demanded

चयन आयोग के प्रति अभ्यर्थियों में गहराया रोष

हिमाचल दस्तक। ठियोग : कर्मचारी चयन आयोग की ओर हाल ही में जारी की गई जेबीटी कमीशन की उत्तर कुंजी में गलतियों की भरमार है। इसे लेकर प्रदेश के हजारों अभ्यर्थी परेशान हैं और कर्मचारी चयन आयोग की इस आंसर-की पर सवाल उठा रहे हैं। बताया जाता है कि इस उत्तर कुंजी में विभिन्न विषयों के लगभग 7 सवालों के गलत जवाब दिए गए हैं।

इससे कमीशन देने वाले असमंजस में है कि आंसर-की में दिए गए जवाब सही हैं या फिर उन लोगों ने जो उत्तर दिए, वे सही हैं। लिहाजा इसे लेकर अभ्यर्थियों में आयोग के प्रति रोष है और उन्होंने मांग की है कि सभी को इसके लिए ग्रेस माक्र्स दिए जाएं। इस मामले में ठियोग की दीपिका कश्यप, राकेश डोगरा, राकेश शर्मा, सुनीता, अनीता जमाल्टा, राम चंद्र, हरीश शर्मा, मनीष ठाकुर, दिग्विजय नेगी, पवन, जगदीश ठाकुर सहित अन्य ने आयोग से शीघ्र उचित कदम उठाने की मांग की है। इनका आरोप है कि बोर्ड जेबीटी अभ्यर्थियों के साथ भद्दा मजाक कर रहा है। ऐसे में प्रदेश भर के जेबीटी अभ्यर्थियों ने गलत आंसर-की को दुरुस्त करने और उन्हें ग्रेस माक्र्स देने की मांग की है।

कई प्रश्नों के हैं गलत उत्तर

बेरोजगार युवाओं ने बताया कि उत्तर कुंजी के बी सीरीज में प्रश्न 35 डिस्लेक्सिया का उत्तर व्यावहारिक विकृति दिया गया है, जबकि इसका सही जवाब पठन विकार है। इसी तरह प्रश्न 21 में शैक्षणिक मनोविज्ञान का जनक हरबर्ट को बताया गया है, जो कि गलत है। इसी तरह गणित का प्राइम नंबर वाला प्रश्न ही गलत है। आंसर-की में ऑपरेशन ब्लैक बोर्ड वाला उत्तर भी गलत बताया गया है। इसके अलावा इंग्लिश सेक्शन में भी दो उत्तर गलत बताए जा रहे हैं।

“कर्मचारी चयन आयोग द्वारा जारी की गई आंसर-की प्रोविजनल है। इसमें यदि अभ्यर्थियों को कोई आपत्ति दर्ज करवानी है तो वे तथ्यों के साथ आयोग को 21 मई से पहले अवगत करवाए। आंसर-की को दुरुस्त कर दिया जाएगा और गलत प्रश्न पर सभी को ग्रेस माक्र्स दिए जाएंगे। “
-जितेंद्र कंवर, सचिव, कर्मचारी चयन आयोग

यह भी पढें :

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams