News Flash
India denies OBOR support

एजेंसी। चिंगदाओ  : आठ देशों के शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) में भारत अकेला देश रहा जिसने चीन की महत्वाकांक्षी वन बेल्ट, वन रोड (ओबीओआर) परियोजना का समर्थन नहीं किया।

चीन ने इस परियोजना के लिए करीब 80 देशों और अंतरराष्ट्रीय संगठनों से समझौता कर रखा है। एससीओ के दो दिवसीय सम्मेलन की समाप्ति पर जारी घोषणापत्र में कहा गया है कि रूस, पाकिस्तान, कजाकिस्तान, उजबेकिस्तान, किर्गिजस्तान और तजाकिस्तान ने चीन के बेल्ट एंड रोड इनिशटिव (बीआरआई) को अपने समर्थन की पुष्टि की है। घोषणापत्र में कहा गया कि सदस्य देशों ने यूरेशियन इकोनॉमिक यूनियन के विकास समेत बीआरआई के क्रियान्वयन की दिशा में किए गए संयुक्त प्रयासों के लिए प्रसन्नता व्यक्त की है।

इसके अलावा एससीओ के स्पेस में एक व्यापक, खुला, पारस्परिक रूप से लाभकारी और समान साझेदारी को विकसित करने के लिए क्षेत्रीय देशों, अंतरराष्ट्रीय संगठनों और बहुपक्षीय संघों की क्षमता के इस्तेमाल की भी बात कही गई। आपको बता दें कि चीन की एक क्षेत्र एक सड़क (ओबीओआर) परियोजना पर एक परोक्ष टिप्पणी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि किसी बड़ी संपर्क सुविधा परियोजना में सदस्य देशों की संप्रभुता और अखंडता का सम्मान किया जाना चाहिए।

दुनिया को समझाई एससीओ की नई परिभाषा

अपने संबोधन में पीएम मोदी ने एससीओ की नई परिभाषा बताई। इसमें एस से आशय नागरिकों की सिक्योरिटी (सुरक्षा), ई से इकॉनोमिक डेवलपमेंट (आर्थिक विकास), सी से क्षेत्र में कनेक्टिविटी, यू से यूनिटी (एकता), आर से रेसपेटक्ट पार सावेरिनिटी एंड इंटिग्रिटी (संप्रभुता और अखंडता का सम्मान) और ई से तात्पर्य (एन्वायरर्नमेंटल प्रोटेक्शन) पर्यावरण सुरक्षा है।

आतंकवाद के खिलाफ बने वैश्विक मोर्चा

चिंगदाओ। एससीओ ने नई ऊर्जा के साथ अगले तीन सालों में आतंकवाद, अलगाववाद और चरमपंथ से मुकाबला करने का इरादा जाहिर किया और संयुक्त राष्ट्र के समन्वय के तहत एकीकृत वैश्विक आतंकवाद-निरोधक मोर्चा का आह्वान किया। चीन, भारत एवं रूस सहित आठ देशों के समूह ने यहां अपने दो दिवसीय वार्षिक शिखर सम्मेलन के समापन अवसर पर एक घोषणापत्र जारी किया, जिसमें आतंकवाद, चरमपंथ और अलगाववाद पर काबू पाने के लिए सहयोग गहरा बनाने का संकल्प किया गया। शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आतंकवाद की चुनौतियों का जिक्र किया और अफगानिस्तान में इसके प्रभावों का उदाहरण दिया।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams