News Flash
Kullu district ban on adventure games by September 15

रिवर राफ्टिंग, पैराग्लाइडिंग सहित अन्य गतिविधियां हुई बंद, प्रशासन ने जारी किए आदेश

हिमाचल दस्तक। कुल्लू : बरसात सीजन के चलते ब्यास सहित जिला कुल्लू की सभी नदियों में बढ़ते जलस्तर और पर्यटकों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए रिवर राफ्टिंग  सहित साहसिक गतिविधियों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

उपायुक्त कुल्लू यूनुस की ओर से इस संबंध में सोमवार को आदेश जारी कर दिए गए हैं। आदेश में स्पष्ट किया गया है कि घाटी में रिवर राफ्टिंग पर दो जुलाई से पूरी तरह प्रतिबंध रहेगा। दो जुुलाई से रिवर रॉफ्टिंग नहीं की जा सकेगी। संबंधित अधिकारी अवैध रूप से रिवर रॉफ्टिंग करवाने वालों पर कड़ी निगरानी रखेंगे। आदेशों की अवहेलना करने वाले ऑपरेटरों के विरुद्ध नियमानुसार कार्रवाई अमल पर लाई जाएगी। गौर रहे कि मानसून के चलते इन दिनों ब्यास समेत अन्य सहायक नदी-नाले उफान पर हैं।
जिन्हें ध्यान में रखते हुए प्रशासन ने रिवर राफ्टिंग पर दो जुलाई से प्रतिबंध लगाने का फैसला लिया है, जो 15 सितंबर तक लागू रहेगा। गौर रहे कि इस दौरान ब्यास की लहरों के बीच खतरनाक प्वाइंट में हादसा होने का खतरा रहता है। वहीं, उपायुक्त यूनुस ने जिला में कार्यरत सभी रिवर राफ्टिंग ऑपरेटरों से अपील की है कि इन आदेशों की अनुपालना सुनिश्चित करें और किसी प्रकार के भी नदी नालों में साहसिक गतिविधियों को न करवाएं।
यदि कोई ऑपरेटर इस प्रकार की  गतिविधियों में संलिप्त होता है तो उसके खिलाफ  कानूनी कार्रवाई अमल में लाई  जाएगी।  उपायुक्त ने स्थानीय लोगों को भी नदियों के नजदीक न जाने की सलाह दी है। जिला कुल्लू में बवेली, पिरड़ी, झीड़ी, बजौरा, रायसन समेत अन्य जगहों में रिवर  रॉफ्टिंग होती है। बाहरी राज्यों से गर्मी से निजात पाने के लिए रोजाना सैकड़ों पर्यटक कुल्लू जिला में दस्तक दे रहे हैं और ब्यास की लहरों में रिवर राफ्टिंग का आनंद ले रहे हैं, लेकिन जलस्तर पर व अन्य सुरक्षा संबंधी सभी चीजों को ध्यान में रखते हुए प्रशासन ने दो जुलाई से रिवर राफ्टिंग पर रोक लगा दी है। अब जिला की किसी भी नदी पर रिवर राफ्टिंग नहीं करवाई जा सकेगी।
..हिमानी ठाकुर। 

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams