सरकारी स्कूल में नन्हे बच्चों से हर माह मंगवाए जा रहे हैं पैसे ,एसएमसी के माध्यम से ली जा रही फीस की शिक्षा विभाग के अधिकारियों को नहीं जानकारी,  वर्तमान में केजी में 14 छात्र प्राप्त कर रहे हैं शिक्षा

हिमाचल दस्तक : तोमर ठाकुर। सोलन : सोलन शहर के साथ भोज-आंजी सरकारी स्कूल में बच्चों से फीस के नाम पर 200 रुपये प्रत्येक माह वसूल किए जा रहे हैं। स्कूल में फीस के नाम पर की जा रही यह वसूली बीते कई माह से चल रही है।

एसएमसी के माध्यम से ली जा रही इस फीस के बारे में शिक्षा विभाग के आला अधिकारियों को पता ही नहीं है। जानकारी के अनुसार राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला भोज-आंजी में इन दिनों केजी की कक्षाएं लग रही हैं।  करीब 14 बच्चे केजी कक्षा में शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। इन बच्चों से एसएमसी मनमानी फीस वसूल रही है।

विभाग के अनुसार प्रदेशभर में एसएमसी द्वारा अपने स्तर पर केजी की कक्षाएं लगाई जा रही हैं और एसएमसी ही अपने स्तर पर अध्यापकों को वेतन देती है। बच्चों से किसी भी प्रकार की फीस नहीं ली जाती है। ऐसे में भोज-आंजी स्कूल में एसएमसी द्वारा वसूली जा रही फीस एसएमसी की कार्यप्रणाली पर प्रश्नचिन्ह खड़ा करती है।
गौर रहे की भोज-आंजी स्कूल में एसएमसी द्वारा केजी के लिए एक अध्यापक को आउटसोर्स पर रखा गया है। इस अध्यापक को वेतन देने के लिए बच्चों से प्रत्येक माह 200 रुपये फीस वसूली जाती है। कई बच्चे तो अधिक फीस के कारण स्कूल में पढऩे से कतराने लगे हंै।

बच्चों से नहीं ली जा सकती फीस: कोहली

स्टेट प्रोजेक्ट डायरेक्टर शिक्षा विभाग आशीष कोहली का कहना है कि प्रदेशभर में एसएमसी द्वारा अपने स्तर पर केजी की कक्षाएं लगाई जा रही हंै। एसएमसी ही अपने स्तर पर केजी के अध्यापकों को वेतन देती है। बच्चों से किसी भी प्रकार से फीस नहीं ली जा सकती। यदि कोई सरकारी स्कूल में केजी के बच्चों से एसएमसी फीस वसूलती है तो उस पर कार्रवाई की जाएगी। सभी स्कूलों के मुख्याध्यापकों का भी यह फर्ज बनता है कि यदि एसएमसी द्वारा बच्चों से फीस वसूली जा रही है तो तुरंत शिक्षा विभाग को सूचित करें।

अध्यापक के वेतन पर जल्द लेंगे फैसला: गीता

एसएमसी प्रधान भोज-आंजी स्कूल गीता का कहना है कि पुरानी कार्यकारिणी द्वारा केजी के लिए एक अध्यापक को आउटसोर्स पर रखा गया है। जल्द ही एक बैठक का आयोजन किया जाएगा और आउटसोर्स पर रखे गए अध्यापक को वेतन कैसे दिया जाए, इसका निर्णय किया जाएगा।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams