बोले, तभी साफ वातावरण में सांस ले पाएंगी हमारी पीढिय़ां , मुख्यमंत्री ने राजगढ़ के चुरवाधार में किया वन महोत्सव का आगाज

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। नाहन : प्रदेश में आने वाली पीढिय़ों को यदि जिंदा रखना है तो हमें प्रकृति का संरक्षण करना पड़ेगा। चुनौती भरे दौर से गुजरते हुए पर्यावरण में वनों का संरक्षण कैसे किया जाए, इसको लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने एक नया फार्मूला जनता को दिया है।

मंगलवार को पच्छाद विधानसभा क्षेत्र के राजगढ़ की चुरवाधार में 69 वें राज्य स्तरीय वन महोत्सव का आगाज करते हुए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि पौधरोपण अभियान प्रतिवर्ष की भांति एक बार के लिए औपचारिकता नहीं, बल्कि इसे हमें अपने संस्कारों में बतौर रस्म अपनाना होगा। उन्होंने प्रदेशवासियों का आह्वान किया कि प्रत्येक परिवार का एक सदस्य एक पेड़ लगाए और उसे अपने गौत्र के रूप में गोद लेकर ताउम्र उसका संरक्षण करें। उन्होंने कहा कि जब हम इसे एक प्रथा के रूप में अपना लेंगे तो निश्चित ही यह प्रदेश हरियाली से भरपूर तो होगा ही और हमारी आने वाली पीढिय़ां सुरक्षित वातावरण में सांस लेंगी।

उन्होंने कहा कि प्रदेश का 67 फीसदी हिस्सा वन क्षेत्र है। बावजूद इसके प्रदेश के लोगों को इसमें अपनी सक्रिय भूमिका के साथ 596 चयनित स्थानों पर 15 लाख पौधे रोपित किए जाने का लक्ष्य है। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर देवदार व विभिन्न औषधीय पौधों का रोपण किया। इसके अलावा सोलन के नौणी स्थित डॉ. वाईएस परमार बागवानी एवं वानिकी विवि में भी पौधरोपण किया। मुख्यमंत्री ने प्रदेश के प्रख्यात कहानीकार व कवि दीनदयाल वर्मा की पुस्तक का विमोचन करते हुए पर्यावरण व पेड़ों के मर्म को लेकर लिखी कविता को मंच से पढ़कर सुनाया और दीनदयाल वर्मा की इस उपलब्धि के लिए उन्हें बधाई का पात्र बताया।

इस अवसर पर विस अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल, ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री वीरेंद्र कंवर, समाजिक न्याय एवं अधिकारित मंत्री डॉ. राजीव सहजल, सांसद विरेंद्र कश्यप, विधायक सुरेश कश्यप व सुखराम चौधरी, वरिष्ठ भाजपा नेता बलदेव भंडारी, प्रधान मुख्य अरण्यपाल डॉ. जीएस गोराया सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद थे।

सुझाव पर शुरू होना चाहिए अभियान

समारोह में वन एवं परिवहन मंत्री गोबिंंद सिंह ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री ने जो सुझाव दिया है, उसको देखते हुए प्रदेश में व्यापक तौर पर अभियान चलाया जाना चाहिए। प्रत्येक धार्मिक आयोजन पर हर व्यक्ति द्वारा एक पेड़ लगाकर इस क्रम को निरंतर चलाना होगा।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams