News Flash
The Governor took cognizance of the last rites

जिला प्रशासन को दिए उचित कार्रवाई के निर्देश

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला : प्रदेश में कुल्लू जिला के एक गांव में स्थानीय लोगों के दलित महिला का अंतिम संस्कार रोकने के मामले का राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने कड़ा संज्ञान लिया है। उन्होंने कुल्लू के जिला प्रशासन से तुरंत उचित कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

गौर हो कि पिछले दिनों कुल्लू जिला में मनाली के पतलीकूहल थाने के अंतर्गत धारा गांव में एक समुदाय विशेष के लोगों ने गांव के शमशानघाट में दलित समाज की एक महिला का अंतिम संस्कार रोक दिया था। बाद में मामले ने जब तूल पकड़ा तो इसमें स्थानीय प्रशासन ने हस्तक्षेप भी किया। अब इसे लेकर संत श्री रविदास धर्म सभा के एक प्रतिनिधिमंडल ने अध्यक्ष कर्मचंद भाटिया की अध्यक्षता में रविवार को राज्यपाल आचार्य देवव्रत से मुलाकात की।

उन्होंने राज्यपाल को बताया कि कैसे कुल्लू जिला के ग्रामीण इलाके में दलित महिला के शव के साथ भी भेदभाव किया गया। इसका राज्यपाल ने कड़ा संज्ञान लिया और वहां के जिला प्रशासन को इस बारे में तुरंत उचित कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा सभा ने शिमला के अंबेडकर चौक के निकट पुस्तकालय भवन के निर्माण का मामला भी राज्यपाल के ध्यान में लाया। इस पर भी राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने शिमला के उपायुक्त को वस्तुस्थिति से अवगत करवाने के निर्देश दिए हैं।

राज्यपाल ने बाबा साहेब को अर्पित किए श्रद्धासुमन

शिमला। राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने रविवार को संविधान निर्माता, भारत रत्न डॉ. भीमराव अंबेडकर की जयंती पर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किए। इस अवसर पर उन्होंने शिमला में चौड़ा मैदान के अंबेडकर चौक में स्थापित डॉ. भीमराम अंबेडकर की प्रतिमा पर प्रदेशवासियों की ओर से उन्हें पुष्पांजलि अर्पित की। इस मौके पर राज्यपाल ने कहा कि बाबा साहेब अंबेडकर भारत के संविधान के सूत्रधार थे, जिन्होंने देश के संविधान का निर्माण किया। संविधान के माध्यम से उन्होंने भारत की सुव्यवस्था का काम किया। ऐसे महान व्यक्तित्व को हम नमन करते हैं।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams