1. सीईटीपी और कचरा प्लांट की बदबू के खिलाफ आंदोलन से हिल्ली शिमला की कुर्सियां 
  2. टीम ने पहले ग्रामीणों से जाना सूरतेहाल
  3. फिर किया सीईटीपी और कचरा प्लांट का दौरा
  4. सीईटीपी व कचरा प्लांट की कमियों पर प्रबंधन व नगर परिषद को लताड़ 
  5. तीन सदस्यीय टीम के समक्ष उग्र दिखे ग्रामीण
  6.   जमकर हुई सीईटीपी व ग्रामीणों की नोकझोंक और हंगामा

ओम शर्मा/धर्मपाल। बद्दी  : प्रदेश के सबसे बड़े औद्योगिक क्षेत्र बीबीएन के तहत केंदूवाला में स्थापित कॉमन इफ्लूअंट ट्रीटमेंट प्लांट (सीईटीपी) और कचरा प्लांट के विरोध की चिंगारियां शिमला तक पहुंच गई हैं। ग्रामीणों के विरोध के बाद चीफ सेकेट्री शिमला के आदेशों के बाद तीन सदस्यीय टीम केंदूवाला पहुंची।

जिसमें प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के अधिक्षण अभियंता प्रवीण गुप्ता और दो सांईटिफिक ऑफीसर शामिल थे। टीम ने पहले ग्रामीणों से सूरतेहाल जाना और लंबे समय से विरोध कर रहे ग्रामीणों ने टीम को समक्ष जमकर दुखड़ा रोया। ग्रामीणों ने टीम के समक्ष सीईटीपी को कचरा प्लांट को बंद करने के लिए आवाज बुलंद की। गुस्साए लोगों ने साफ कहा कि अगर बदबू की समस्या का समाधान नहीं होता तो सीईटीपी और कचरा प्लांट को बंद कर दिया जाए नहीं तो उन्हें मौत दे दी जाए, तीन पंचायतों के 8 गांव बदतर जिंदगी जीने को मजबूर हैं।

ग्रामीणों का दुखड़ा सुनने के बाद तीन सदस्यीय टीम ने सीईटीपी और कचरा प्लांट का निरीक्षण किया। इस दौरान टीम ने खामियों पर सीईटीपी प्रबंधन और नगर परिषद बद्दी के अधिकारियों को जमकर लताड़ लगाई। टीम ने खामियों को जल्द से जल्द दूर करने के कड़े आदेश जारी किए। इस दौरान सीईटीपी प्रबंधन और ग्रामीणों के बीच जमकर नोकझोंक हुई और ग्रामीणों ने कई गंभीर आरोप जड़े। ग्रामीणों ने कहा कि उन्हें किसी के आश्वासनों और सुझावों पर भरोसा नहीं, जब तक यह समस्या हल नहीं होगी लोगों का आंदोलन जारी रहेगा। शिमला से आई तीन सदस्यीय टीम के साथ प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड बद्दी के एक्सईएन अविनाश शारदा, बीबीएनडीए के डिप्टी सीईओ राजीव कुमार, नप बद्दी के जेई राकेश कांत व प्रधान पोला चौधरी समेत अन्य प्रतिनिधि मौजूद रहे।

बीबीएनडीए कार्यालय में हुई अहम बैठक, फैसलों को जल्द अमलीजामा पहनाने के आदेश

ग्रामीणों से रू-ब-रू होने तथा सीईटीपी और कचरा प्लांट के निरीक्षण के उपरांत शिमला से आई टीम ने बीबीएनडीए कार्यालय में प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड, बीबीएनडीए, नप के अधिकारियों व पंचायत प्रतिनिधियों के साथ बैठक की। बैठक में कई अहम फैसले लिए गए और निर्णयों व उपायों को जल्द से जल्द अमलीजामा पहनाने के आदेश दिए गए। बैठक के दौरान मलपुर पंचायत के प्रधान पोला राम चौधरी ने मुद्दा रखा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के अनुसार उद्योगों में प्राईमरी ट्रीटमेंट के बाद सीईटीपी को पानी दिया जाए। माननीय उच्च न्यायालय के इन आदेशों की बीबीएन में जल्द से जल्द पालना करवाई जाए। अगर उद्योग प्राईमरी ट्रीटमेंट के बाद सीईटीपी को पानी देते हैं तो आधी समस्या वैसे ही हल हो जाएगी। बैठक में पंचायत प्रधान पोला राम व जनप्रतिनिधियों ने सीईटीपी और उद्योगों की कार्यप्रणाली पर गंभीर सवाल खड़े किए।

बैठक में फैसला लिया गया कि सीईटीपी द्वारा ट्रीट करके सरसा नदी में छोड़े जाने वाले पानी के डिस्चार्ज प्वाईंट पर फिश पोंड बनाया जाए। जिसकी एक चाबी ग्रामीणों और एक सीईटीपी प्रबंधन के पास रहेगी। पंचायत प्रतिनिधियों और ग्रामीणों की टीम के अलावा सीईटीपी प्रबंधन इस फिश पोंड की निगरानी करेगा ताकि पता चलता रहे कि ट्रीट करके छोड़ा जाने वाला पानी ठीक है के नहीं।

वहीं बैठक में सीईटीपी को एक बड़ा डिस्पले बोर्ड बोर्ड लगाने के निर्देश दिए गए जिसमें पानी के प्रदूषण पैरामीटर और ट्रीट किए हुए पानी के पैरामीटर ग्रामीणों को पता चल सकें। बैठक में कचरा प्लांट पर भी अहम निर्णय लिए गए। तीन सदस्यीय कमेटी जिसमें शिमल और पांवटा के सांईटिफिक ऑफीसर शामिल थे उन्होंने कहा कि साईटिफिक तरीके से कचरे का निष्पादन हो। जिसके लिए वकायदा बुधवार को एक टीम पहुंच रही है जो यह साफ करेगी की कचरा प्लांट में कचरे का साईटिफिक डिस्पोजल हो सकता है या नहीं। बैठक में बीबीएनडीए के अधिकारियों ने बताया कि कचरा प्लांट को सांईटिफिक डस्पोजल प्रणाली से बनाने के लिए टैंडर कॉल कर दिए गए हैं और जल्द इसे बना दिए जाएगा।

टीम ने साफ कहा कि जब तक यहां साईटिफिक डिस्पोजल सिस्टम नहीं बनता, तब तक यहां कचरे का निष्पादन सांईटिफिक तरीके से किए जाए। अगर यहां यह संभव नहीं है तो इस कचरा प्लांट में कूड़ा कचरा फेंकने की बजाए इसे डिस्पोजल के लिए बाहर भेजा जाए। बैठक में पंचायत प्रधान पोला राम चौधरी, उपप्रधान गुरदास चंदेल, पूर्व प्रधान श्याम लाल, धर्मपाल, बलवीर पंच, धनी राम, पूर्व वीडीसी सोमनाथ सैणी, पूर्व पंच जवाहर लाल, बलवीर सैणी समेत ग्रामीण उपस्थित रहे। प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड बद्दी के एक्सईएन अविनाश शारदा ने बताया कि तीन सदस्यीय टीम ग्रामीणों से बातचीत के उपरांत सीईटीपी और कचरा प्लांट का दौरा किया। जिसके उपरांत हुई बैठक में लिए गए फैसलों पर जल्द काम करने के आदेश जारी किए गए हैं।

……… दस्तक टीम बद्दी मानपुरा ………

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams