News Flash
Nisha Azad gohar mandi

पेशे से सीए, 21 नवंबर को ऑस्टे्रलिया के मेलबर्न शहर में ली नागरिकता की सदस्यता

हिमाचल दस्तक, हरीश चौहान। गोहर

मंडी जिला के गोहर घाटी में जन्मी बेटी निशा आजाद को क्या मालूम था कि वे भी कभी विदेशी देश ऑस्ट्रेलियन की नागरिकता हासिल करेगी। 35 साल की निशा आजाद ने अपनी जिंदगी में कई उतार चढ़ाव देखें है जिनमें उनका मुख्य उदेश्य कड़ी मेहनत करके उच्च शिक्षा हासिल करना था। बचपन में अपने मां बाप के लालन पालन में पली बढ़ी निशा आजाद गोहर पंचायत से संबंध रखती है, और प्यारे लाल आजाद की पुत्री है। पिता प्यारे लाल ने भी अपनी बेटी के लालन पालन में कोई कमी न रखते हुए उसकी विदेश में पढ़ाई करवाई।

निशा आजाद पिछले 10 सालों से विदेश में अपनी शिक्षा हासिल कर रही थी। वहीं पढ़ाई के दौरान निशा आजाद ने विदेश में रहने का मन बना लिया। विदेशी नागरिकों के ऑस्ट्रेलिया की नागरिकता प्राप्त करने की डगर बहुत कठिन थी। ऑस्ट्रेलिया की नागरिकता पाने की चाहत रखने वाले लोगों को अंग्रेजी भाषा पर पकड़ और ऑस्ट्रेलियाई मूल्यों को प्रदर्शित करने की क्षमता को लेकर कड़ी परीक्षा देनी पड़ती है। ऐसे में निशा कड़े परिश्रम के दौर से गुजरी और आखिरकार 21 नवंबर को उसे मेलबर्न शहर के गलेन इरा सिटी कॉसिल के मेयर ने ऑस्टे्रलिया की नागरिकता की शपथ दिलाई।

निशा के पिता प्यारे लाल आजाद ने बताया कि बेटी की पढ़ाई खालसा कॉलेज चंडीगढ़ से हुई और यहां से उच्च शिक्षा प्राप्त की है। उसके बाद सीए का डिप्लोमा करने के बाद वह 2007 में अगली पढ़ाई करने के लिए मेलबर्न युनिवर्सिटी चली गई। पढ़ाई के साथ उसने वहीं पर पार्ट टाईम नौकरी करते हुए ऑस्ट्रेलिया के रिति रिवाजों और नियमों का पालन किया और नागरिकता के कठीन दौर को पार किया।

अब वह आस्ट्रेलिया की स्थाई नागरिक बन गई। नागरिक बनने के बाद वह ऑस्ट्रेलिया में वोट कर सकती हैं, चुनाव लड़ सकती हैं, सेना में भर्ती हो सकती हैं, जूरी मेंबर बन सकती हैं, बच्चों को नागरिकता, कर्ज लेने में आसानी, हमेशा के लिए ऑस्ट्रेलिया में निवास मिलेगा। उन्होने बताया कि बेटी में भारत आने के लिए ऑस्ट्रेलिया में वीजा अप्लाई कर दिया है।

This is Rising!

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams


[recaptcha]