News Flash
astronauts capsules

स्पेस में दुर्घटना से बचाव के लिए इसरो का सफल परीक्षण

नई दिल्ली
इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (इसरो) ने वीरवार की सुबह अंतरिक्ष के क्षेत्र में भारत के लिए एक और बड़ी पहल की। इसरो ने एक कैप्सूल का सफलतापूर्वक परीक्षण किया, जिसे अंतरिक्ष यात्री अपने साथ ले जा सकेंगे। श्रीहरिकोटा में यह परीक्षण किया गया। कैप्सूल का प्रयोग अतंरिक्ष यात्री स्पेस में किसी दुर्घटना के वक्त अपनी सुरक्षा के लिए कर सकेंगे। इस टेस्ट की प्रकृति के बारे में बताते हुए इसरो के चेयरमैन के सीवान ने बताया कि क्रू बेलआउट सिस्टम पर कैप्सूल परीक्षण का प्रयोग किया गया और यह पूरी तरह से सफल रहा।

इसके लिए किसी आदमी की जगह पर क्रू मॉडल का प्रयोग किया गया था। मॉडल कैप्सूल में अटैच किया गया था और इसे रॉकेट इंजन से जोड़ा गया। लांच के कुछ देर बाद पैराशूट भेजा गया और कैप्सूल सुरक्षित तरीके से समुद्र में निर्धारित स्थान पर उतर गया। चेयरमैन के सीवान ने बताया कि 259 सेकेंड के इस परीक्षण में सब कुछ सफलतापूर्वक और योजना के अनुसार हुआ।

उन्होंने यह भी बताया कि इस कैप्सूल का उद्देश्य स्पेसक्राफ्ट में अंतरिक्ष यात्रियों के साथ अगर कोई दुर्घटना होती है तो उनकी सुरक्षा को सुनिश्चित करना है। उन्होंने कहा कि भविष्य में एयरप्लेन मोड वाले अंतरिक्ष कैप्सूल लांच करने की भी योजना है।

एस्ट्रोनॉट की सेफ लैंडिग प्राथमिकता

मानव सहित स्पेस प्रोग्राम को लेकर के सीवान ने कहा कि अगर हम अपने अंतरिक्ष यात्रियों को स्पेस में भेजते हैं तो उन्हें सुरक्षित भेजने और सुरक्षित वापस धरती पर लाना हमारी प्राथमिकता है। इसके लिए यात्रियों के साथ लाइफ सपोर्ट सिस्टम देना होगा। ऑक्सीजन की आपूर्ति, दबाब का नियंत्रित होना और मानवीय वेस्ट को डिस्चार्ज करने की व्यवस्था और क्रू की सुरक्षा के लिए बाहर निकालने में सक्षम कैप्सूल कुछ ऐसी ही चीजें हैं।

यह भी पढ़ें – ब्रिटिश हाईकोर्ट ने विजय माल्या को दिया झटका

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams