News Flash
embryo

पिता व पड़ोसन को नहीं थी प्रेग्नेंसी की जानकारी – पुलिस

हिमाचल दस्तक। चंडीगढ़
शनिवार को डेराबस्सी के सब डिवीजनल सिविल अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड के टॉयलेट की फ्लश टैंक में एक भ्रूण मिला था। उस वक्त भ्रूण 24 घंटे से भी कम पुराना लग रहा था। सफाई करने वाले ने जब भ्रूण को देखा तो अस्पताल प्रशासन को इसकी सूचना दी। इसके बाद पुलिस को जानकारी दी गई। तब से अस्पताल की सीसीटीवी फुटेज खंगाली जा रही थी। पर अब पुलिस ने उस मां को गिरफ्तार कर लिया है। मां 18 साल दो महीने की अविवाहित है। उसने ही शनिवार तड़के सूरज के उजाले में भीड़-भाड़ वाली इमरजेंसी वार्ड की टॉयलेट में बच्चे को जन्म देने के बाद उसे टंकी में फेंक दिया था।

यह काम 35 से 40 मिनट में अंजाम देकर लड़की अपने पिता व पड़ोसी के साथ हॉस्पिटल से चली गई थी। अब सीसीटीवी फुटेज की मदद से शक के घेरे में आई लड़की को पुलिस ने चौथे दिन पकड़ लिया गया। उसे डेराबस्सी सिविल अस्पताल में मेडिकल के लिए भर्ती किया गया है। लैहली के नजदीक क्वाटर्स में रहने वाली लड़की पेट दर्द का बहाना कर लालडू से अस्पताल आई थी। साथ में पिता व एक पड़ोसन थी। तड़के पौने छह बजे लड़की इमरजेंसी वार्ड के टॉयलेट में गई और वहां 35 से 40 मिनट बीताने के बाद बाहर आ गई। इस दौरान उसने बच्चा जन्मा। वह जिंदा था या मरा हुआ, उसे कुछ नहीं पता।

बस अफरा-तफरी में उसे डंप कर दिया। आधे घंटे बाद बाहर आई और यहां पड़ोसन से मंगाकर पैड व लोअर बदली और वापस लैहली लौट गई। बहरहाल, पुलिस ने बच्चे के शव का पोस्टमार्टम कराकर उसी दिन दफना दिया था और अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया था। कहा यह भी जा रहा है कि पिता और पड़ोसन को इसकी जानकारी नहीं थी।

This is Rising!

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams


[recaptcha]