News Flash
deepak dairy farm

सिंगापुर की नौकरी छोड़ पंजाब में जमाया कारोबार

20 एकड़ में फैले फार्म में रखी हैं 350 होल्स्टीन फ्रिसियन व जर्सी गउएं

हिमाचल दस्तक। चंडीगढ़
पंजाब के दीपक गुप्ता (50) ने सिंगापुर की नौकरी छोड़कर अपने वतन में टेक्नोलॉजी आधारित आधुनिक डेयरी फार्म खोल लिया है। मित्रों व सहयोगियों के मना करने के बावजूद उन्होंने सपना पूरा करने के लिए अपने कॉरपोरेट करियर की आरामदायक जिंदगी छोड़ दी। दीपक को जमा-जमाया करियर छोडऩे का बिलकुल भी अफसोस नहीं है, क्योंकि वह ‘हिमालयन क्रीमरी’ खोलने के अपने सपने को साकार होता देख कर बहुत खुश हैं। उनका अत्याधुनिक फार्म करीब 20 एकड़ में फैला हुआ है।

यह चंडीगढ़ से करीब दो घंटे के सफर के बाद नाभा के बाहरी ओर स्थित है। फार्म में 350 खूबसूरत होल्स्टीन फ्रिसियन और जर्सी गउएं हैं। फार्म के हेरिंगबोन मिल्किंग पार्लर में फिलहाल 200 गउओं का दूध निकाला जाता है। पार्लर में दूध को हाथ से स्पर्श भी नहीं किया जाता। फार्म में ही तत्काल चिल्ड करके पास्चराइज्ड दूध को हिमालयन क्रीमरी ब्रांड नाम से पैक किया जाता है।

देश की यात्राओं के दौरान आया विचार

दीपक गुप्ता ने कहा कि नौकरी के बीच भारत की यात्राओं के दौरान ही मुझे इसका विचार सूझा। मैं मिलावटी दूध के किस्से पढ़ता रहता था और यह भी देखता था कि मेरे कई दोस्त और परिवार ताजे दूध के लिए काफी प्रयास करते थे और कई बार तो वे स्थानीय दूध विक्रेता पर ही निर्भर करने लगते थे।

बिना उबाले किया जा सकता है इस्तेमाल

हिमालयन क्रीमरी के दूध को बिना उबाले सीधे उपभोग किया जा सकता है, क्योंकि यह हार्मोन, कीटनाशकों और एंटीबायोटिक दवाओं से पूर्णत: मुक्त है। दूध के प्रत्येक बैच का परीक्षण यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है कि यह उच्चतम मानक का हो और इसके लिए अत्याधुनिक उपकरणों का प्रयोग किया जाता है।

जैविक खेती के तरीके से तैयार होता है चारा-सब्जियां

डेयरी के अलावा, फार्म में जैविक खेती के तरीके से हरा चारा, गेहूं और सब्जियां भी उगाई जाती हैं। यहां गोबर को पहले बायोगैस बनाने के लिए प्रयोग करते हैं, फिर खेतों में खाद के रूप में। बायोगैस से तैयार बिजली ही फार्म में इस्तेमाल होती है।

यह भी पढ़ें – रोहतांग के नाम पर मनाली में सैलानियों को लग रहा चूना

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams