News Flash
migrant family boys

नहर में डूब गए थे आदित्य और आशीष

हिमाचल दस्तक। फरीदाबाद
बीपीटीपी पर फास्ट फूड की रेहड़ी लगाकर बच्चों को पढ़ाने ऐटा-मैनपुरी से शहर आए विजय को गरीब और प्रवासी होने का दर्द पुलिस-प्रशासन ने बुधवार को दिया। मंगलवार को गुरुग्राम नहर में विजय के दो बेटे गिर गए थे। बड़े बेटे आदित्य (14) का शव मंगलवार को मिल गया था, लेकिन छोटे बेटे आशीष (12) का कोई पता नहीं चला था। इसके बाद बुधवार को एनडीआरएफ की टीम बुलाकर तलाश करवाने का वादा मौके पर पहुंची पुलिस ने किया था, लेकिन 24 घंटे बीतने के बाद भी पुलिस न तो एनडीआरएफ की टीम को बुला पाई, न गोताखोर आए। बेसहारा परिवार एक बच्चे का शव रखकर दूसरे का नहर में डबडबाई आखों से तलाशता रहा।

वहीं पुलिसकर्मी नहर किनारे खड़े होकर बीच-बीच में रस्सी फेंकते रहे। शाम ढलने तक भी गोताखोर या एनडीआरएफ की टीम नहीं आई। इसके बाद परिवार ने आदित्य का अंतिम संस्कार कर दिया। अब एनडीआरएफ की टीम आएगी यह जानकारी पुलिस ने परिवार को दी है। इसके बाद परिवार देर शाम को शांत-स्वभाव घर चला गया। एनडीआरएफ की टीम क्यों नहीं आई के सवाल पर एसएचओ सेक्टर-31 थाना अमित कुमार का जवाब है कि नोएडा से टीम कहीं गई हुई है।

गोताखोर भी टीम में ही थे। अब हरियाणा की एनडीआरएफ टीम से संपर्क किया गया है जो वीरवार को आएगी। पिता को खाना देने के लिए निकले और नहर में डूबे आदित्य-आशीष दोनों नहर में कैसे गए किसी ने नहीं देखा। लेकिन मौका ए वारदात से अंदाजा लगाया जा रहा है नहर में पहले आशीष उतरा और बड़े भाई आदित्य ने जब उसे डूबते देखा तो भाई को बचाने के लिए कूद गया।

यह भी पढ़ें – ठंड में नहीं कटेंगी बेघरों की रातें

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams


[recaptcha]