water copper utensils

तांबे के बर्तन में पानी

आयुर्वेद में पंचधातु के बर्तनों में खाना अच्छा बताया गया है और इसके फायदों को साइंस भी मानता है। इसी तरह तांबे के बर्तन की भी ऐसी ही कुछ खासियत है, जो आपकी सेहत के लिए बहुत जरूरी है…..

थाइराइड की समस्या को करता है नियंत्रित

थायरेक्सीन हॉर्मोन में आई गड़बड़ी के कारण थाइराइड उत्पन्न होता है। इसके मुख्य लक्षण तेजी से वजन घटना और बढऩा होता है। इसके अलावा थकान महसूस होना भी इसी का लक्षण है। डॉक्टरी जांच में पाया गया है कि तांबे में रखा पानी शरीर में आए थायरेक्सीन हॉर्मोन के असंतुलन को संतुलित करता है, जिससे थाइराइड ग्रंथी ठीक से काम करना प्रारंभ कर देती है। इसीलिए कहते है कि तांबे के बर्तन में रखे पानी का सेवन करने से कई रोगों को नियंत्रित किया जा सकता है।

गठिया रोग में है एक फायदेमंद उपचार

आज के समय में गठिया और जोड़ों का दर्द आम समस्या बन गया है, जिसके कारण हर दूसरा व्यक्ति इस समस्या से परेशान रहता है।
आपको जानकर आश्चर्य होगा लेकिन यह सत्य है। यदि गठिया के रोग से ग्रसित व्यक्ति रोजाना तांबे के पात्र में रखे जल का सेवन करे, तो उसकी समस्या कुछ हद तक कम हो सकती है। तांबे में Anti Inflammatory गुण पाए जाते हैं, जो जोड़ों के दर्द और जोड़ो में सूजन के कारणों को खत्म करते हैं।

दिल को रखे स्वस्थ जिससे बीमारियों का खतरा हो कम

आजकल के व्यस्त समय के कारण अधिकतर लोग तनावग्रस्त रहते हैं, जिसके कारण दिल की बीमारियों से ग्रसित व्यक्तियों की संख्या दिनोंदिन बढ़ती जा रही है। इससे बचने के लिए प्रतिदिन रात को तांबे के बर्तन में रखे पानी का सेवन करें। इससे पूरे शरीर में रक्त का संचार अच्छा रहता है। इसके अलावा कॉलेस्ट्रॉल और दिल की बीमारियां भी नियंत्रित रहती हैं।

खून की कमी को करे दूर

अधिकतर भारतीय महिलाओं में खून की कमी और अनीमिया की समस्या पाई जाती है। कहते हैं कि शरीर की अधिकतर क्रियाओं में तांबा महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह शरीर को आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करके उन्हें रक्त धमनियों में प्रवाहित करता है, जिससे रक्त की कमी और इसके विकार की संभावना कम हो जाती है। इसीलिए आयुर्वेद में भी तांबे के पात्र में रखे पानी पीने की सलाह दी जाती है।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams