Diabetes

ऐसे रखें Diabetes Patient अपना ख़्याल

  • मधुमेह की बीमारी में संतुलित आहार बहुत जरुरी हैं ।
  • धुमेह (Diabetes) की बीमारी इंसान के साथ हमेशा चलती हैं इसलिए जरुरी है कि रोगी अपने खाने का विशेष ध्यान रखना चाहिए ।
  • इन मरीजों को चाहिए की वो डॉक्टर के पास जाकर नियमित अपनी जांच करवाएं और डॉक्टर की दी हुई सलाह के अनुसार ही अपना ख्याल रखें ।
  • उच्च फाइवर वाली सब्जियों को भी अपने खाने में शामिल करें जैसे मटर, सेम, ब्रोकली, पालक और हरे पत्तेदार सब्जियों को खाने में शामिल करें, दालों को भी इस्तेमाल में लाएं ।
  • टमाटर के रस में काली मिर्च और नमक डाल कर सुबह खाली पेट पीएं ।
  • फाइवर वाले फ़ल पपीता,सेब ,संतरा,नाशपाती, अमरूद आदि का सेवन भी करना चाहिए इसमें फाइवर अधिक मात्रा में होता है।
  • पानी को भी खूब मात्रा में पीएं और शराब के सेवन से मधुमेह रोगी दूर ही रहे ।

Diabetes-: मधुमेह की बीमारी में संतुलित आहार बहुत जरुरी हैं । मधुमेह (Diabetes) की बीमारी इंसान के साथ हमेशा चलती हैं इसलिए जरुरी है कि रोगी अपने खाने का विशेष ध्यान रखना चाहिए । खाने की हर चीज़ मधुमेह के रोगी के शरीर को प्रभावित करती हैं, इसलिए सोच समझकर हर चीज़ का सेवन करना चाहिए । मधुमेह(Diabetes) के रोगी को अपने खाने से लेकर रहन-सहन जैसी सब बातों का ध्यान रखना चाहिए । खाने में बरती गई लापरवाही रोगी को नुक्सान पंहुचा सकती हैं । इन मरीजों को चाहिए की वो डॉक्टर के पास जाकर नियमित अपनी जांच करवाएं और डॉक्टर की दी हुई सलाह के अनुसार ही अपना ख्याल रखें । समय पर दवाई लें और संयमित जीवन शैली को अपनाएं । मधुमेह रोगी अपने खाने में प्रोटीन भरी सब्जियों और दालों को आहार में शामिल करें, व्यायाम करें। मधुमेह को कंट्रोल रखें और सुखद जीवन जीये ।

  1. उच्च फाइवर वाली सब्जियों को भी अपने खाने में शामिल करें जैसे मटर, सेम, ब्रोकली, पालक और हरे पत्तेदार सब्जियों को खाने में शामिल करें, दालों को भी इस्तेमाल में लाएं क्योंकि यह ब्लड ग्लूकोज़ लेवल पर कम असर डालता है, अन्य कार्बोहाईड्रेट युक्त खाद्य पदार्थो की तुलना में ।
  2. टमाटर के रस में काली मिर्च और नमक डाल कर सुबह खाली पेट पीएं  । बादाम का सेवन भी मधुमेह को कंट्रोल में रखता हैं । पानी में भिगोकर सुबह रोज 6 बादाम खाएं  ।
  3. अंकुरित सब्जियों को भी अपने खाने में शामिल करें । साबूत अनाज ,चना ,बाजरा, जई ,आटा, फाइवर आदि को अपने खादय पदार्थ को भोजन में शामिल करें।  अगर आपका नूडल्स खाने का दिल है तो खाएं  पर उसमें हमेशा ही हरी सब्जियों को डाल कर खाएं ।
  4. दिन में दो गिलास दूध जरूर पीएं क्योंकि दूध में कार्बोहाईड्रेट और प्रोटीन अच्छी मात्रा में होती हैं जो की ब्लड शुगर को कंट्रोल में रखता हैं ।
  5. फाइवर वाले फ़ल पपीता,सेब ,संतरा,नाशपाती, अमरूद आदि का सेवन भी करना चाहिए इसमें फाइवर अधिक मात्रा में होता है । आम, केले और अंगूर का सेवन कम ही करें क्योंकि इनमें चीनी की मात्रा अधिक होती हैं ।
  6. भोजन का भी ध्यान रखें, छोटे-छोटे अंतराल के बाद भोजन करें क्योंकि एकदम से ज्यादा भोजन खाने से ब्लड शुगर का लेवल बढ़ जाता हैं । इसके साथ ही हमें मिठाई का सेवन भी नहीं करना चाहिये ।
  7. पानी को भी खूब मात्रा में पीएं और शराब के सेवन से मधुमेह रोगी दूर ही रहे ।
  8. मांसाहारी खाने में सी- फूड और चिकन खाना चाहिए । परन्तु लाल मांस (red meet ) से बचना चाहिये क्योंकि लाल मीट में सैचुरेटेड फैट उच्च मात्रा में पाया जाता  हैं ।
  9. एक चम्मच मेथी को रात को 100 मिलीलीटर पानी में भिगोकर रखें फिर, सुबह खाली पेट इस पानी को पी लें ,इससे भी diabeties कंट्रोल में रहती हैं ।

                                                डायबिटीज़(Diabeties) के लिए योग 

 

डायबिटीज़ रोगियों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ रही हैं । शरीर में जब इन्सुलन  हार्मोन की कमी हो जाती हैं तो मधुमेह की बीमारी होने लगती हैं । बार-बार भूख लगना, ज्यादा प्यास लगना , वजन में कमी, थकान, घाव जल्दी न भरना यह सब मधुमेह के लक्षण हैं । इसका कोई इलाज़ तो नही है लेकिन योग से डायबिटीज़ पर छुटकारा पाया जा सकता हैं ।  डायबिटीज़ से छुटकारा पाने के लिए आप कपालभाती, अनुलोम -विलोम, प्राणायाम, मद्रासन आदि योग आप कर सकते हैं । कुछ योग की विधि हम आपको बता रहे हैं ।

  1. सूर्यनमस्कार -: यह योग करने से शरीर में रक्त का संचार अच्छे से होता हैं, इसे एक मिनट में चार -चार  बार करना चाहिये ।
  2. प्राणायाम-: प्राणायाम 8 प्रकार का होता हैं जिसमें से भ्रामरी योग डायबिटीज़ के लिए बहुत अच्छा होता हैं । भ्रामरी करने से मन ,दिमाग और तंत्रिका तंत्र को फ़ायदा पहुंचता हैं ।
  3. मद्रासन-: इस योग में जमीन पर बैठकर दायें हाथ की हथेली को नाभि पर रखे और बायें हाथ की हथेली को दाएं हाथ पर  रखे ,फिर सांस बाहर निकालते हुए  आगे झुककर  अपनी ठोडी को जमीन पर टिकाये और धीरे-धीरे अपनी सांस को अंदर की तरफ लें । इस विधि को 2 या 3 बार करें ।
  4. मेडिटेशन-: ध्यान करने से मन और दिमाग़ शांत होता हैं । मेडिटेशन रोज़ाना करने से इन्सुलन हार्मोन में अनियमितता ठीक रहती हैं जो की मधुमेह के रोगी के लिए बहुत ज़रूरी हैं ।

Conclusion-:  मधुमेह एक ख़तरनाक बीमारी हैं । आज भारत में आधे से ज्यादा आबादी मधुमेह की बीमारी से पीड़ित हैं । इसका मुख्य कारण  हैं, मानसिक तनाव, असंयमित खाना, मोटापा और व्यायाम की कमी । यह बीमारी हमारे शरीर में अग्नाशय द्वारा इन्सुलन के स्त्राव के कम होने के कारण से होती हैं । रक्त में ग्लूकोज़ स्तर बढ़ जाता  हैं । इन  मरीज़ों में आँखों,गुर्दा, स्नायु, मस्तिष्क ह्रदय के क्षतिग्रस्त होने के कारण गंभीर रोग हो सकते हैं । मधुमेह का समय पर इलाज़ न हो तो खतरनाक हो सकता हैं ।  यह कोई ऐसी बीमारी नही की कुछ दवाईयां लेने से बंद हो जाएगी, इससे हम निजात नहीं पा सकते। लेकिन कुछ तरीकों से इस बीमारी पर काबू पा सकते हैं ।  इसलिए मधुमेह के रोगी को अपने खानपान के साथ-साथ योगा भी करना चाहिए। योगा हमें अंदर से बीमारियों से लड़ने की शक्ति देता है और स्वस्थ रखता है ।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams