lungs healthy

फेफड़ों की सुरक्षा

फेफड़े हमारे शरीर का महत्वपूर्ण अंग हैं। इंसान हर रोज करीब 20 हजार बार सांस लेता है और हर सांस के साथ जितनी ज्यादा ऑक्सीजन शरीर के अंदर पहुंचती है, शरीर उतना ही सेहतमंद बना रहता है। इसके लिए जरूरी है कि फेफड़ेे स्वस्थ रहें। बेहतर खान-पान से फेफड़ों को स्वस्थ रखा जा सकता है…..

पानी

पानी फेफड़ों की सेहत के लिए बहुत जरूरी होता है। पानी से फेफड़े हाइड्रेट (गीले) बने रहते हैं और फेफड़ों की गंदगी इसी गीलेपन की वजह से बाहर निकल पाती है और फेफड़े सेहतमंद बने रहते हैं।

लहसुन-प्याज

इसमें एलिसिन नाम का तत्व पाया जाता है। यह सूजन व जलन कम करता है और संक्रमण से निपटने में मदद करता है। यह फेफड़ों में घुसे प्रदूषक कणों को खत्म कर देता है। अस्थमा में लहसुन का सेवन लाभकारी होता है। लंग कैंसर में भी यह गुणकारी होता है।

ओमेगा थ्री फैटी एसिड

फैटी एसिड पूरे शरीर की सेहत के लिए जरूरी हैं, लेकिन कई अध्ययनों से यह साबित हुआ है कि यह अस्थमा में भी बहुत लाभकारी है। यह आपको अखरोट, बींस, दूध से बनी चीजों और अलसी के बीजों से मिलेगा।

सेब

फ्लेनॉयड्स, विटामिन-ई और विटामिन-सी तीनों फेफड़ों को बेहतर तरीके के काम करने में मददगार होते हैं। सेब में ये तीनों पाए जाते हैं। इसके लिए बच्चों को सेब का जूस पिलाएं व बड़ों को सेब खाना चाहिए।

गोभी

पत्ता गोभी, फूल गोभी और खासकर ब्रोकली से फेफड़ों के कैंसर का खतरा घटकर आधा रह जाता है। इन सभी में क्लोरोफिल पाया जाता है जो खून बनाने और इसे साफ रखने में अहम भूमिका निभाता है।

अदरक

इसमें ऐसे एंटी-इनफ्लैमेट्री गुण होते हैं जो सूजन, जलन जैसी दिक्कतों को दूर करते हैं। साथ ही ये फेफड़ों में घुसे प्रदूषक तत्वों को शरीर से बाहर कर हमें निरोगी बनाता है।

अनार

इसमें कई तरह के एंटी-ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। दरअसल एंटी-ऑक्सीडेंट शरीर की कोशिकाओं से विषैले पदार्थ को निकाल बाहर करते हैं। ऐसे में ये जहां फेफड़ों को कई सारी बीमारियों से बचाते हैं, वहीं फेफड़ों में ट्यूमर बनने से भी रोकते हैं।

विटामिन-सी

फेफड़ों को सेहतमंद रखने में विटामिन-सी की बड़ी भूमिका होती है। यह फेफड़ों को पूरे शरीर में ऑक्सीजन पहुंचाने में मदद करता है। संतरा, नींबू, अंगूर, टमाटर, ब्रोकली आदि फलों और सब्जियों में विटामिन-सी भरपूर मात्रा में पाया जाता है।

हल्दी

अदरक की तरह हल्दी में भी एंटी इनफ्लैमेट्री गुण होते हैं। हल्दी में सरकुमिन नाम का तत्व भी होता है। यह कैंसर कोशिकाओं को खत्म करने में कारगर है। हल्दी का नियमित प्रयोग फेफड़ों के रोगों से बचाता है।

गाजर

यह विटामिन-ए और विटामिन-सी का बड़ा स्रोत तो है ही, साथ ही गाजर में कई तरह के एंटी-ऑक्सीडेंट भी पाए जाते हैं, जो सेहतमंद फेफड़ों के लिए उपयोगी होते हैं।

यह भी पढ़ें – हल्का व सुपाच्य भोजन है चावल

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams