Protein Foods

प्रोटीन (Protein) एक सूक्ष्म पोषक तत्व है जो कि मानव शरीर के लिए है जरूरी

दिन के आहार में रोजाना तीन बार समान मात्रा में प्रोटीन खाने से बुजुर्गो में मांसपेशियों की ताकत में वृद्धि हो सकती है। बहुत से बुजुर्ग प्रोटीन अक्सर दोपहर व रात के भोजन से प्राप्त करते हैं। नए शोध में सुझाया गया है कि नाश्ते में भी प्रोटीन की प्रचुर मात्रा होनी चाहिए।

कनाडा के मैकगिल विश्वविद्यालय के सहायक प्रोफेसर स्टीफेन चेवलियर ने कहा, “हमने देखा कि जिन लोगों ने नाश्ते में अपने प्रोटीन को शामिल किया व खाने के दौरान तीन बार प्रोटीन लेने में संतुलन बनाया, उनके मांसपेशियों में मजबूती दिखाई दी।” इस शोध का प्रकाशन ‘अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रिशन’ में किया गया है। इसमें शोध दल ने प्रोटीन खपत की मात्रा और उनके वितरण की जांच की। यह जांच 67 साल व इससे ज्यादा आयु वाले लोगों पर की गई।

आप शाकाहारी हैं और बॉडी बिल्डिंग करते हैं तो भी ये लेख आपके लिये है

नॉन वेज डाइट में प्रोटीन से भरे फूड की कमी नहीं है, मगर वेजिटेरियन लोगों को प्रोटीन जुटाने में थोड़ी सी मेहनत करनी पड़ती है। कसरत करने वालों को मसल्स बनाने के लिए ढेर सारे प्रोटीन की जरूरत होती है। इसके अलावा भी जो लोग अंडा या मांस नहीं खाते उन्हें अपनी जरूरत तो पूरी करनी ही होगी। आप शाकाहारी हैं और वेज प्रोटीन (vegetarian protein) खोज रहे हैं तो ये लेख आपको लिये ही है। आप शाकाहारी हैं और बॉडी बिल्डिंग करते हैं तो भी ये लेख आपके लिये है।

भोजनों में प्रोटीन का राजा माना जाता है

Protein Foods

प्रोटीन (Protein) एक सूक्ष्म पोषक तत्व है जो कि मानव शरीर की सही बढ़त, विकास और मरम्मत के लिए काफी ज़रूरी है। अतिरिक्त प्रोटीन शरीर के द्वारा ऊर्जा में बदल दिया जाता है। प्रोटीन की कमी से मांसपेशियां कमज़ोर हो जाती हैं तथा मानव शरीर ठीक से काम नहीं कर पाता। ऐसा पाया गया है कि प्रोटीन में 20 तरह के एमिनो एसिड्स (amino acids) होते हैं।

प्रोटीन हमारे शरीर के लिए कितना ज़रूरी है, यह तो हम सभी जानते ही हैं लेकिन प्रोटीन की कितनी मात्रा ज़रूरी है यह भी मालूम होना चाहिए. शरीर के लिए प्रत्येक पोषक तत्वों की एक निश्चित मात्रा ही शरीर के लिए ज़रूरी होती है, इसकी कमी और अधिकता दोनों ही नुकसानदायक होते है।

प्रोटीन शरीर में विभिन्न प्रकार की गति से सोखे जाते हैं। उदाहरण के तौर पर व्हे (whey) प्रोटीन तुरंत हज़म हो जाता है और केसिन (casein) जो कि दूध का मुख्य प्रोटीन होता है, धीरे धीरे हज़म होता है। प्रोटीन के प्राकृतिक स्त्रोतों में अंडे प्रमुख हैं। इन्हें भोजनों में प्रोटीन का राजा माना जाता है।

 

प्रोटीन युक्त अनाज (Protein rich grains)

अनाज काफी ज़रूरी खाद्य उत्पाद हैं जो कैलोरीज (calories), कार्बोहाइड्रेट्स (carbohydrates), विटामिन्स और प्रोटीन्स (vitamins and proteins) से भरपूर होता है। साबुत अनाज जैसे मटर, राजमा और साबुत मूंग अन्य दालों के मुकाबले काफी ज़्यादा मात्रा में प्रोटीन से युक्त होते हैं। रिफाइंड (refined) अनाज को कई प्रकार के व्यंजनों जैसे पास्ता (pastas), पैनकेक (pancakes), स्मूदी तथा ब्रेड (smoothies and breads) में डाला जा सकता है। अन्य अनाज जो कि प्रोटीन से युक्त होते हैं वे हैं बिना पका हुआ वीट जर्म (wheat germ), पका हुआ दलिया, बिना पका हुआ राइस ब्रान (rice bran) तथा कच्चा दलिया।Protein Foods

प्रोटीन युक्त फल (Protein rich fruits)

फल भी प्रोटीन का स्त्रोत होते हैं पर ये सब्जियों, फलियों, दालों तथा अन्य उच्च मात्रा में प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों के मुकाबले कम प्रोटीन प्रदान करते हैं। कई सूखे फल जैसे किशमिश, अखरोट, काजू आदि प्रोटीन से भरपूर होते हैं। कुछ प्रसिद्ध फल जो प्रोटीन से भरपूर होते हैं वे हैं खुबानी, अमरुद, शहतूत, काले जामुन, अनार, अंगूर आदि।

प्रोटीन युक्त नट्स (Protein rich nuts)Protein Foods

नट्स जैसे बादाम, पिस्ते, अखरोट, काजू और मूंगफली प्रोटीन का बड़ा स्त्रोत होते हैं और सोडियम तथा पोटैशियम (sodium and potassium) से भरपूर होते हैं। यह धावकों को खाने को दिया जाता है जिससे कि उनके पसीने में निकल गए इलेक्ट्रोलाइट्स (electrolytes) की भरपाई हो सके। इनमें से ज़्यादातर विटामिन इ, मैंगनीज, मैग्नीशियम (vitamin E, manganese, magnesium) तथा अन्य ज़रूरी पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams