News Flash

बीपीएल सूचि में न डाला तो पंचायत कार्यालय के बाहर करुंगा आत्मदाह 

हिमाचल दस्तक। गरली : ब्लाक खंड परागपुर के अंतर्गत ग्राम पंचायत गरली  के लोगों ने बीपीएल सर्वे में पात्र लोगों को दरकिनार करके अपात्र लोगों को शामिल करने का आरोप लगाया है।

गरली बार्ड नंबर दो निवासी 76 वर्षीय बुजुर्ग ओम प्रकाश पुत्र मेहर चंद ने ग्राम पंचायत की उक्त कार्यप्रणाली से तंग होकर एसडीएम देहरा व जिलाधीश कागंड़ा को दो टूक चेताया है कि अगर गरली में बीपीएल सूची की जल्द जांच न की तो वह पंचायत कार्यालय के बाहर आत्मदाह करने का मजबूर हो जाएगा, जिसकी जिम्मेदारी सीधे तौर पर प्रशासन की होगी। प्रदेश सरकार व विभागीय प्रशासन को गत करीब तीन  महीने  पहले इस बारे शिकायत पत्र भेजने के बावजूद आज तक कोई कार्रवाई न होने पर बुजुर्ग ओम प्रकाश ने यह अहम फैसला लिया है।
ओम प्रकाश का आरोप  है कि  प्रदेश सरकार के निर्देशों के अनुसार जो विगत कुछ माह पहले  बीपीएल का सर्वे हुआ है  उसमें फिर से सांठ-गांठ कर इस बार भी बीपीएल सूचि में वही पुराने अपात्र  लोगों को शामिल किया गया है जो ऊंची पैठ वाले हैं, जबकि  उम्मीद लगाकर बैठे तमाम कई गरीब पात्र लोगों को  इस बार भी बाहर रखा गया है  जो कि पात्रों से अन्याय है। ओम  प्रकाश  का आरोप है कि वह अति गरीब परिवार से ताल्लुक रखता है, न ही मेरे पास रहने के लिए मकान है और न ही घर में कमाने वाला कोई  सरकारी मुलाजिम है, लेकिन उसे ग्राम सभा ने यह कहकर बीपीएल परिवार सूचि में शामिल नहीं किया गया कि उसकी पत्नी उक्त पंचायत की वार्ड मेंबर है।
शिकायतकर्ता  ने उपमंडल अधिकारी देहरा व जिलाधीश कागंड़ा से गुहार लगाई है कि उक्त सर्वे को रद्द करके किसी उच्च अधिकारी को इस की समीक्षा का जिम्मा सौंपा जाए, ताकि गरीब लोगों को भी अपना हक और न्याय मिल सके। अत: जो अपात्र लोग बीपीएल सूची में किसी की मेहरबानी से सुरक्षित हैं उन्हें बाहर का रास्ता दिखाया जाए। एसडीएम देहरा धनवीर सिह ठाकुर कहा कि मामला ध्यान में आया है और बीडीओ परागपुर  को आदेश पारित कर दिए गए हैं कि तुरंत कार्रवाई करके रिपोर्ट पेश करें।
(अश्वनी शर्मा)

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams