Prisoner canteens

डीजीपी एसआर मरडी ने पुलिस मुख्यालय की कैंटीन बदली, डीजी जेल सोमेश गोयल ने दिया था दो कैदियों को रोजगार

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला : दो पुलिस महानिदेशकों की लड़ाई में पुलिस मुख्यालय में कैदियों द्वारा चलाई जा रही कैंटीन बंद कर दी गई है। पूर्व डीजीपी और डीजी जेल सोमेश गोयल ने पीएचक्यू में यह कैंटीन 2017 में खोली थी।

यहां दो कैदी मुख्यालय के लिए कैंटीन चला रहे थे। इसमें बेकरी, पिज्जा, बर्गर, लंच, चाय-काफी आदि की सुविधा थी, लेकिन वर्तमान डीजीपी एसआर मरडी ने इसे बंद करवा दिया। पुलिस महानिदेशक ने इसे किसी और को देने का फैसला लिया है, जो कैदी न हों। संपर्क करने पर डीजीपी एसआर मरडी ने बताया कि सेवाओं में सुधार के लिए इस व्यवस्था को बदला गया है। दूसरी ओर डीजी जेल सोमेश गोयल ने बताया कि हमें ये भी नहीं बताया गया कि कैंटीन क्यों बंद की जा रही है? क्या इस बारे में कोई शिकायत मिली है, इसकी जानकारी भी नहीं दी गई। हालांकि पुलिस मुख्यालय के ही कई अफसर इस फैसले से सहमत नहीं हैं।

चर्चा है कि मरडी के डीडब्ल्यू नेगी से मिलने जेल जाने के बाद हुए विवाद के बाद ऐसा होना ही था। लेकिन ये हैरानी भरा है कि जेल सुधारों की इस पहल को पुलिस मुख्यालय में ही जगह नहीं मिली, जबकि राज्य सरकार राज्य सचिवालय में कैदियों की बनाई वस्तुओं के लिए एक आउटलेट देने को तैयार है। इधर, ये चर्चा भी है कि कैंटीन पर कंडा जेल की डेयरी से आने वाले दूध के विवाद की गाज भी गिरी है। एक बड़े साहब को पहले दूध फ्री में सप्लाई हो रहा था, लेकिन जैसे ही व्यवस्था बदलने पर छह महीने का लंबित बिल भेजा गया, तो ये कदम पसंद नहीं आया था।

 

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams