News Flash
Deputy Commissioner

सहयोग और श्रद्धाभाव से करें सभी कर्मचारी अपने दायित्वों का निर्वहन ,  मेला स्थल पर लगभग 25 स्थानों पर लगेंगे रोड मैप

हिमाचल दस्तक। श्री नयना देवी : श्री नयना देवी श्रावण अष्टमी नवरात्र मेले के दौरान श्रद्धालुओं को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध हों और सहजता से उन्हें मां नयना देवी के दर्शन हो सके, इसके लिए आवश्यक है कि जिला प्रशासन के साथ-साथ मंदिर अधिकारी तथा डियुटी पर लगाए गए कर्मचारी, न्यासी तथा स्वयंसेवी संस्थाएं पूर्ण तत्परता, सहयोग और श्रद्धा भाव से अपने दायित्वों का निर्वहन करते हुए श्रद्धालूओं की सुविधा के लिए कार्य करें । यह दिशा-निर्देश उपायुक्त मन्दिर न्यास श्री नयना देवी विवेक भाटिया ने उतरी भारत के प्रसिद्ध शक्तिपीठ श्री नैनादेवी जी में आगामी 12 अगस्त से 20 अगस्त तक आयोजित किए जाने वाले श्रावण अष्टमी मेलों के सफल आयोजन के लिए श्री नयना देवी स्थित मातृ आंचल में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए दिए।

उन्होंने बताया कि मेले के दौरान अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी को मेला अधिकारी व उप मण्डलाधिकारी स्वारघाट को सहायक मेला अधिकारी तथा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक को पुलिस मेला अधिकारी नियुक्त किया जाएगा । उन्होंने कहा कि मेला श्री नयना के पूरे क्षेत्र को नौ सैक्टरों में विभाजित किया जाएगा तथा प्रत्येक सैक्टर में सैक्टर अधिकारी तैनात किए जाएंगे तथा लगभग 25 स्थानों पर रोड मैप लगाए जाएंगे जो कि दर्शाएंगे कि श्रद्धालु कहां पहुच रहे हैं और साथ में यह भी दर्शाएंगे कि किस -किस स्थान पर कौन सी सुविधाएं उपलब्ध हैं। उन्होंने बताया कि मेले के दौरान कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए पुख्ता प्रबन्ध किए जाएंगे तथा नागरिक सुरक्षा व यातायात सुचारू व सुनिश्चित करने के लिए पुलिस, होम गार्ड के अतिरिक्त लगभग 150 सेवा दल के जवानों को सभी सैक्टरों में अपनी सेवाएं देने के लिए तैनात किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि मेला स्थल के दो स्थानों पर गैस के बड़े-बड़े गुब्बारे लगाए जाएंगे और मेलेे के दौरान गुम होने वाले बच्चों को उस स्थान पर रखा जाएगा ताकि गुम होने वाले बच्चों के अविभावक ,परिजन उन्हें वहां से सुरक्षित ले जा सकें। उन्होंने बताया मेले से पूर्व कार्यकारी अधिकारी नगर परिषद श्री नयना देवी के भवनों में जाकर निरीक्षण करेंगे ताकि श्रद्धालुओं को इन भवनों में ठहरने से कोई भी परेशानी न हो। उन्होंने कहा कि श्री नैना देवी जी के प्रत्येक भवनों का पूर्ण रूप से निरीक्षण किया जाए और यदि कोई भवन असुरक्षित है तो उस भवन मालिक को नगर परिषद श्रद्धालुओं को न ठहराने के लिए निर्देश देंगे। उन्होंने कहा कि वर्ष 2000 से पूर्व में बने भवनों का निर्धारित निरीक्षण समिति गहनता से निरीक्षण करे। उन्होंने कहा कि श्रद्धालुओं को ठहराने के लिए सभी को निर्धारित निरीक्षण समिति से अनापत्ति प्रमाण पत्र लेना अनिवार्य है।

उन्होंने कहा कि मेले के दौरान जब कतरों व अन्य असामाजिक तत्वों पर नजर रखने के लिए सीसीटीवी विजीलैंस टीमें कार्य करेंगेी जो कि सजग, सचेत और प्रशिक्षित होंगी। उन्होंने कहा कि इस कार्य में पुलिस विभाग के अधिकारी भी अपना आवश्यक सहयोग प्रदान करेंगे। उन्होंने बताया कि श्रद्धालुओं को मेले के दौरान किसी भी विषय पर अपनी समस्या को रखने के लिए मेला समिति द्वारा व्हाटसप नम्बर जारी किया जाएगा जिस पर श्रद्धालु अपनी समस्या से सम्बन्धित शिकायत कर सकेंगे। जबकि मेले की वस्तुत: स्थिती की जानकारी प्राप्त करने के लिए अधिकारियों और कर्मचारियों का व्हाटसप गु्रप बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए हिमाचल पथ परिवहन निगम व पंजाब रोडवेज द्वारा स्पेशल बसें चलाई जाएगी। उन्होंनेे बताया कि पार्किंग के लिए छोटी व बड़ी गाडिय़ां चिन्हित पार्किगं स्थलों पर ही पार्क की जाएगी। उन्होंने डीएसपी नयना देवी को निर्देश दिए गए कि वे बस व टैक्सी आपरेटरों से बैठक कर वाहनों की आवाजाही के लिए परमिशन व पार्किगं की व्यवस्था को देखते हुए परमिट देने पर विचार करें ताकि मेले के दौरान श्रद्धालुओं को बस सुविधा भी मिल जाए और यातायात भी अवरूद्ध न हो ।

उन्होंने चिकित्सा विभाग के अधिकारियों को दिशा-निर्देश देते हुए कहा कि मेला शुरू होने से पहले जीवन रक्षक व आपातकालीन स्थिति में दी जाने वाली दवाईयों का भण्डारण सुनिश्चित कर लें। उन्होंने बताया कि आपात स्थिति से निपटने के लिए क्विक रैस्क्यु टीम का गठन किया जाएगा जो स्वास्थ्य टीम के साथ तालमेल बिठाकर मेले के दौरान 24 घण्टे मुस्तैद रहेगी। उन्होंने कहा कि मेले के दौरान हर सेक्टर में एक-एक स्ट्रेचर व कर्मी तैनात किए जाएंगे। बैठक में निर्णय लिया गया कि श्रद्धालुओ के अपने समूह से पिछडऩे या अलग हुए श्रद्धालुओं की अनाउसंमैट व सहयोग के लिए छ: सूचना केन्द्र जिसमें टोबा, घवांडल, नया बस अडडा, सिंह द्वार, नगर परिषद तथा गूफा में सूचना केन्द्र स्थापित कर अनाउसमैंट सिस्टम लगाया जाएगा।

इस अवसर पर एडीएम विनय कुमार पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार, ए.एस.पी भागमल, ए.डी.एम स्वारघाट अनील चौहान, एसडीएम सदर प्रियंका वर्मा, डीआरओ देवी राम, तहसीलदार एवं मंदिर अधिकारी दुर्गा दास यादव, प्रधान ग्राम पंचायत टोबा राम दास चौधरी, प्रधान ग्राम पंचायत घवांडल मीना कुमारी, प्रधान ग्राम पंचायत मंडयाली कमला देवी के अतिरिक्त पंजाब राज्य से सरकारी अधिकारी तथा गैर सरकारी व्यक्ति व अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।

पंकज गौतम

———————

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams